नवरात्रों को छठे दिन वीरवार को एक साथ मनाई गई छठीं व सप्तमी, वैष्णोदेवी मंदिर में हुई भव्य पूजा

0
271

Faridabad News, 22 Oct 2020 : नवरात्रों के छठे दिन वीरवार को छठी व सप्तमी एक साथ मनाई गई। इस अवसर पर सिद्धपीठ श्री वैष्णादेवी मंदिर में मां कात्यायनी की भव्य पूजा अर्चना की गई। प्रातकालीन आरती के साथ मंदिर में भक्तों ने मां कात्यायनी के समक्ष अपनी अरदास की। इस अवसर पर शहर के प्रमुख लोगों ने मंदिर में आयोजित भव्य पूजा अर्चना में हिस्सा लिया। इस अवसर पर माता रानी की 5 हजार भेंटे लिख चुके गायक व गीतकार अनिल कत्याल ने मंदिर में पहुंचकर विशेष पूजा अर्चना में हिस्सा लिया। उन्होंने माता के समक्ष अपनी अरदास लगाई और पूजा अर्चना की। मंदिर संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया ने अनिल कत्याल को माता की चुन्नी भेंट कर उनका स्वागत किया। इस पुण्य अवसर पर मंदिर में उपस्थित सभी लोगों ने कात्यायनी माता की पूजा में हिस्सा लिया तथा हवन यज्ञ में आहुति डाली। श्री भाटिया ने बताया कि मंदिर में दर्शन करने वाले भक्तों ने कोविड-19 के चलते सोशल डिस्टेंस के साथ पूजा अर्चना की। मंदिर संस्थान की ओर से सभी भक्तों से मास्क पहनकर ही प्रवेश करने की अपील की।

प्रधान जगदीश भाटिया ने कहा कि मंदिर में कोविड-19 के तहत सभी प्रबंधन किए गए हैं। इस अवसर पर उन्होंने सभी भक्तों से कहा कि कात्यायनी माता की सच्चे मन से पूजा करने से सभी मुराद पूरी होती हैं। श्री भाटिया ने कहा कि मां कात्यायनी को शुद्ध शहद व केसर सबसे प्रिय है। मां को शहद और केसर का भोग लगाया जाता है। इससे मां कात्यायनी अति प्रसन्न होती हैं। मां कात्यायनी को सोने की भांति चमकने वाला सुनहरा रंग बहुत ही प्रिय है। इस अवसर पर श्री भाटिया ने सभी भक्तों को नवरात्रों की बधाई दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here