अब अध्यापक नहीं करवा पाएंगे मनमर्जी का सिलेबस

0
282

Jind News : हायर एजुकेशन डिपार्टमैंट की ओर से जारी लैटर के अनुसार अब सभी कालेजों को हर महीने क्या पढ़ाना है, इसकी जानकारी पहले ही देनी होगी। यह जानकारी उन्हें नोटिस बोर्ड पर चस्पा व कालेज के पोर्टल पर अपलोड करनी होगी। इससे कालेज में पढ़ने वाले विद्यार्थी पहले से ही पूरे सैशन का सिलेबस चैक कर सकते हैं। इसके लिए विभाग ने 27 अक्तूबर तक कालेजों के सभी अध्यापकों को जानकारी अपलोड करने को कहा है।

राजकीय कालेजों में पहले किसी भी दिन अध्यापक अपनी मर्जी से कोई भी सिलेबस पढ़ा देते थे। इससे विद्यार्थी संबंधित चैप्टर की तैयारी सही ढंग से नहीं कर पाते थे। इसके साथ ही हायर एजुकेशन डिपार्टमैंट के निर्देश पर राजकीय कालेज के अध्यापकों को सैशन से पहले ही सिलेबस की जानकारी अपलोड करनी होगी। इससे विद्यार्थी मोबाइल व कम्प्यूटर से अपना सिलेबस चैक कर सकेंगे। राजकीय कालेजों में अध्यापकों को 27 अक्तूबर तक कालेज के पोर्टल पर अपने सैशन से संबंधित सिलेबस की जानकारी अपलोड करनी होगी।

जानकारी अपलोड नहीं करने पर होगी कार्रवाई
राजकीय कालेजों में हायर एजुकेशन की ओर से विद्यार्थीयों के लिए नई व्यवस्था के लिए अधिकारी निरीक्षण करेंगे। इसमें अधिकारी कालेजों में नोटिस बोर्ड पर सिलेबस चिपकाने व कालेज के पोर्टल सिलेबस अपलोड करने की रिपोर्ट की जानकारी एकत्रित कर हायर एजुकेशन डिपार्टमैंट को सौंपेंगे।

शिक्षक व छात्रों को होगा फायदा
राजकीय कालेजों में अध्यापकों के हर माह में पढ़ाए जाने वाले सिलेबस की सूची कालेज के नोटिस बोर्ड पर चस्पाने से विद्यार्थीयों को बड़ा फायदा होगा। इससे विद्यार्थी उसी विषय की तैयारी करके कालेज में आएगा, जो उसे पढ़ाया जाना है। इससे अध्यापक और विद्यार्थी के बीच कांबिनेशन बना रहेगा। शिक्षक भी सही समय पर अपना सिलेबस पूरा करवा पाएगा।

हायर एजुकेशन से आए निर्देश : डा. राजेश्वरी
राजकीय महिला कालेज की प्रिंसिपल डा. राजेश्वरी कौशिक ने बताया कि राजकीय कालेजों में हर महीने नोटिस बोर्ड पर सिलेबस चिपकाने और कालेज के पोर्टल पर 27 अक्तूबर तक इसकी जानकारी अपलोड करनी है। इसके अनुसार उन्होंने पोर्टल पर सभी अध्यापकों का डाटा अपलोड कर दिया है। विद्यार्थी इसका फायदा अगले सैशन में उठा पाएंगे, क्योंकि 17 नवम्बर से विद्यार्थीयों के इस सैशन के पेपर की शुरूआत हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here