सोना नीचे जबकि तेल का ऊपर की ओर जाना जारी

0
67

New Delhi News, 08 June 2021 : अमेरिका ने मजबूत आर्थिक आंकड़े रिपोर्ट किए और इसने अमेरिकी मुद्रा को मजबूती प्रदान की जिसने डॉलर मूल्यवर्ग की धातुओं के लिए अपील को कमजोर किया जबकि तेल एक प्रॉमिसिंग आउटलुक पर लाभ प्राप्त करना जारी रखा।

सोना
अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड और डॉलर ने मजबूती हासिल की और इससे सोने की कीमतों को नुकसान पहुंचा। इस वजह से बीते सप्ताह में स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.5 प्रतिशत कम हो गईं। अमेरिका के उत्साह बढ़ाने वाले आर्थिक आंकड़ों ने उनकी घरेलू मुद्रा को मजबूती दी, जिसका डॉलर मूल्यवर्ग वाले सोने पर पड़ा।

अमेरिकी निजी क्षेत्र की भर्ती में उल्लेखनीय वृद्धि, अपेक्षित बेरोजगारी के दावों में कमी और अमेरिकी सेवा उद्योग में विस्तार ने दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में एक स्थिर सुधार की ओर संकेत किया।

उम्मीद से बेहतर अमेरिकी आर्थिक आंकड़ों से बाजार में जोखिम उठाने की क्षमता बढ़ने के बाद निवेशकों ने सेफ हैवन समझने जाने वाले सोने से दूर रहने का फैसला किया और स्पॉट गोल्ड 1900 डॉलर के निशान से नीचे चला गया।

वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में तेजी से सुधार, तेल की बढ़ती कीमतें और अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा मौद्रिक नीति में संभावित बदलाव पर दांव आने वाले सप्ताह में सोने की कीमतों पर दबाव बना सकते हैं।

कच्चा तेल
वैश्विक मांग की संभावनाओं में सुधार और यूएस क्रूड इन्वेंट्री में गिरावट के कारण सप्ताह के चार दिन में डब्ल्यूटीआई क्रूड 2.8 प्रतिशत से अधिक बढ़ गया। अमेरिका और चीन जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में महामारी के कारण लगे प्रतिबंधों में ढील और दुनियाभर में फैक्ट्री गतिविधि में मजबूत वृद्धि ने तेल की मांग के आउटलुक को मजबूत किया।

एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्ट के मुताबिक यूएस क्रूड इन्वेंटरी पिछले हफ्ते 5.1 मिलियन बैरल गिर गया, जो बाजार में 2.4 मिलियन बैरल गिरने की उम्मीद को पार कर गया।

पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन और उसके सहयोगियों ओपेक+ ने आने वाले महीनों में वैश्विक आपूर्ति को आगे बढ़ाने के लिए वैश्विक मांग का अनुमान लगाया है, जिसकी वजह से तेल के उत्पादन को बढ़ाने का फैसला किया है।

वैश्विक बाजारों में ईरानी तेल की वापसी के कोई ठोस संकेत नहीं मिलने के बीच ईंधन की मांग में वृद्धि पर दांव से आने वाले सप्ताह में तेल की कीमतों में तेजी आ सकती है।

आधार धातु
पिछले हफ्ते एलएमई पर बेस मेटल्स ने कम कीमत पर कारोबार किया, जिसमें जिंक ने पैक में सबसे अधिक नुकसान दर्ज किया, क्योंकि चीन से मांग ठप हो गई और अमेरिका द्वारा मौद्रिक नीति में सख्ती होने की चिंताओं ने विकास से जुड़ी परिसंपत्तियों को कमजोर कर दिया।

चीन में आयातित धातु का प्रीमियम कई वर्षों के निचले स्तर तक गिर गया, जो सबसे बड़ी धातु खपत वाली अर्थव्यवस्था में कमजोर मांग की ओर इशारा करता है जिसने औद्योगिक धातुओं पर दबाव डाला।

कॉपर
एलएमई कॉपर 2.8 प्रतिशत से अधिक गिर गया क्योंकि चीन से मांग की संभावना कम थी और मजबूत डॉलर ने कॉपर की आपूर्ति से जुड़े खतरों को कम कर दिया और कीमतों को कम कर दिया।
प्रमुख तांबा उत्पादक चिली से उत्पन्न होने वाली संभावित कमी की चिंता तब कम हुई जब बीएचपी ने कहा कि एस्कॉन्डिडा और स्पेंस खदान में ऑपरेशन कर्मचारियों की हड़ताल के बावजूद सामान्य रहा क्योंकि ग्लोबल माइनर ने खदान को चालू रखने के लिए स्थानापन्न श्रमिकों को बुलाया है।

हालांकि, कॉपर की कीमतों में गिरावट सीमित थी क्योंकि चिली कॉपर कमीशन कोचिल्को ने अप्रैल 21 में कोडेल्को कॉपर माइन में उत्पादन में 0.5 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) की गिरावट दर्ज की, जबकि बीएचपी की एस्कॉन्डिडा खान उत्पादन उत्पादन में 16.5 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) की गिरावट समान समय सीमा।श्री प्रथमेश माल्या एवीपी- रिसर्च, नॉन-एग्री कमोडिटीज एंड करेंसी एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here