‘स्वस्थ जीवनशैली’ पर एक दिवसीय कार्यशाला-शिक्षिकाओं ने दिखाया पाक-कला में कौशल

0
30

Faridabad News, 13 May 2019 : एन एच 3 स्थित डी.ए.वी. शताब्दी काॅलेज में शिक्षकों के लिए स्वस्थ जीवन-शैली पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें “शेफ विदआउट फायर एंड स्मोक” थीम पर शिक्षिकाओं के लिए पाक कला में प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। इस कार्यशाला में बतौर मुख्य अतिथि डिस्ट्रिक्ट रेडक्रॉस सोसाइटी के सचिव विकास कुमार एवं अध्यक्षता पूर्व सचिव बी. बी. कथूरिआ ने की!

इस कार्यशाला का उदेश्य शिक्षिकाएं स्वयं स्वस्थ रहकर पूरे परिवार और पूरे समाज को स्वस्थ रखने में अपना योगदान दे सके| कार्यशाला में आयोजित कुकिंग प्रतियोगिता में कुल 20 टीमों ने भाग लिया प्रत्येक टीम में दो-दो शिक्षिकाओं ने भाग लिया। डेढ़ घंटे इस प्रतियोगिता में टीम को अधिकतम 3 ऐसे व्यंजनों को बनाना था जो एक स्वस्थ एवं सन्तुलित आहार की शर्तों को पूरा करने के साथ साथ व्यंजन की सुन्दर प्रस्तुति करें एवं स्व्च्छ रसोई का नमूना प्रस्तुत करें| इस प्रतियोगिता को जज करने के लिए डायटिशियन एवं न्यूट्रीशियन विशेज्ञ डा. सुरूचि शर्मा और टामा ब्रीवयेरी एंड वर्ल्ड किचन होटल के शेफ हुक्म सिंह विशेष रूप से आमंत्रित थे| शिक्षिकाओं द्वारा विभिन खेल-प्रतियोगिताओ का भी आयोजन किया गया ! इसी बीच शिक्षिकाओं के द्वारा संगीत और कविता-पाठ का भी प्रस्तुति दी गई!

इस मौके पर कॉलेज प्राचार्य डॉ आहूजा ने सभी प्रतिभागियों को पुरस्कृत करते हुए कार्यशाला की प्रशंसा की और कहा की व्यक्ति का मन और शरीर स्वस्थ होने पर ही आत्मा स्वस्थ रहता है| एक शिक्षक स्वस्थ राष्ट्र के निर्माण की नींव रखता है। राष्ट्र के युवा पीढ़ी के स्वस्थ एवं सम्पूर्ण विकास की जिम्मेदारी इन्हीं शिक्षकों के कंधो पर टिकी हुई है। परन्तु युवा पीढ़ी को चुस्त और स्वस्थ बनाने के लिए पहले स्वयं शिक्षक को स्वस्थ और चुस्त रखना होगा| प्राचार्य डॉ. सतीश आहूजा ने बताया की ऐसी कार्यशाला के माध्यम से स्टाॅफ और स्टूडेंटस के लिए नवसृजनात्मक गतिविधियों विचार का सृजन करना है । नए-नए रचनात्मक गतिविधियों को समपन्न कराकर समस्त जनों के समग्र विकास पर जोर दिया जाना है|

न्यूट्रीशियन विशेज्ञ डा. सुरूचि शर्मा ने कहा की स्वस्थ एवं सन्तुलित आहार के माध्यम से एक स्वस्थ जीवन शैली जीने की कला है जो स्वयं को चुस्त एव तंदुरूस्त रखता है । स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है। मनुष्य स्वस्थ रहकर ही वातावरण में सात्विक और शुद्ध व सत्य और सकारात्मक विचारों का प्रवाह और प्रचार कर सकता है।

आयोजित प्रतियोगिता में सबसे ज्यादा पुरुस्कार जीत कर कॉलेज का बी बी ए विभाग ओवरआल चैम्पियन बना | इस टीम में मुख्य रूप से स्नेहलता व् मीनाक्षी कौशिक द्वारा बनाया गया आइटम आयोजित प्रतियोगिता में सबसे ज्यादा पुरुस्कार जीत कर कॉलेज का बी बी ए विभाग ओवरआल चैम्पियन बना | इस टीम में मुख्य रूप से स्नेहलता व् मीनाक्षी कौशिक द्वारा बनाया गया आइटम ने बाजी मारी | बाजी मारी |

कार्यशाला की संयोजिका अंकिता मोहिन्द्रा, मीनाक्षी हुड्डा और निशा सिंह ने अपनी पूरी कार्यकारिणी टीम के साथ डा. सुनीति आहूजा के मार्गदर्शन में इस कार्यक्रम का आयोजन कराया ! इस कार्यशालामें सभी शिक्षिकाओं ने पूरे जोश एवं उमंग से भाग लिया और अपनी प्रसन्नता जाहिर की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here