कमोडिटी के लिए मिश्रित दिनः सोना और चांदी ने बढ़त दर्ज की, जबकि क्रूड और बेस मेटल्स की कीमतों में गिरावट

0
48

New Delhi News, 01 April 2020 : 31 मार्च का दिन कमोडिटी के लिए मिश्रित नतीजों वाला रहा, जहां सोने और चांदी जैसी धातुओं की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज हुई जबकि कच्चे तेल और बेस मेटल्स की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई। कोरोनावायरस के प्रसार का असर वर्ल्ड कमोडिटीज बाजारों पर जारी है। निवेशक विश्व अर्थव्यवस्था पर इसके मध्यम से अल्पकालिक प्रभाव का अनुमान लगाने की कोशिश कर रहे हैं। श्री प्रथमेश माल्या, चीफ एनालिस्ट नॉन एग्री कमोडिटीज एंड मुद्राओं, एंजेल ब्रोकिंग लि

सोना: सोमवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.27 प्रतिशत बढ़कर 1621.9 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई क्योंकि कोरोनवायरस वायरस के आर्थिक प्रभाव पर बढ़ती चिंताओं ने निवेशकों को सेफ-हेवन असेट्स की ओर शिफ्ट किया है। अमेरिकी फेडरल रिजर्व और अन्य प्रमुख केंद्रीय बैंकों की ओर से मजबूत स्टिमुलस इंफ्यूजन की आशा ने भी पीली धातु की बढ़ती कीमतों का समर्थन किया है। पिछले कुछ हफ्तों में गिरावट के बाद सोने की कीमतों में तेजी आना शुरू हो गई है क्योंकि ग्लोबल ग्रोथ की संभावनाओं को लेकर अनिश्चितताओं ने निवेशकों को पीली धातु की ओर जाने को मजबूर कर दिया है जो फिर से एक सेफ हेवन असेट के रूप में सामने आई है।

चांदी: स्पॉट सिल्वर (चांदी हाजिर) भी 0.59 प्रतिशत बढ़कर 14.5 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई जबकि एमसीएक्स सिल्वर 1.04 प्रतिशत की गिरावट के साथ 40894.0 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई।

कोरोनावायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव के बारे में चिंता निवेशकों को असेट के तौर पर सोने में भारी निवेश करने के लिए शिफ्ट कर सकती है।

कच्चा तेलः
सोमवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 6 प्रतिशत से अधिक गिरकर 20.1 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर बंद हुईं क्योंकि यह चिंता सता रही है कि वैश्विक लॉकडाउन अगले कुछ महीनों तक रह सकता है। इसने कच्चे तेल की मांग की संभावनाओं को कम कर दिया और कीमतों को भी कम कर दिया। दुनियाभर के प्रमुख केंद्रीय बैंकों द्वारा कठोर स्टिमुलस उपायों की उम्मीद ने क्रूड की कीमतों को कुछ सपोर्ट प्रदान किया। इसके अलावा कच्चे तेल को लेकर प्रमुख तेल उत्पादकों, रूस और सऊदी अरब के बीच चल रही तनातनी, कीमतों में गिरावट का कारण बनी रही। कई देशों ने घातक वायरस का मुकाबला करने की कोशिश में लॉकडाउन की घोषणा की है, जिसके कारण विमानन और सड़क परिवहन बंद हो गया है और औद्योगिक गतिविधियों में भी रुकावट ने कच्चे तेल की कीमतों पर प्रभाव डाला है।

बेस मेटल्सः
सोमवार को एलएमई पर बेस मेटल की कीमतें निगेटिव रहीं, क्योंकि तेजी से फैल रहे कोरोनावायरस को रोकने की कोशिश में दुनियाभर में लॉकआउट देखा गया। इसके कारण औद्योगिक गतिविधियों में रुकावट आई है और बेस मेटल की कीमतों में कमी आई। यहां तक कि तेल की कीमतों में उल्लेखनीय गिरावट दुनियाभर के कारखाने की गतिविधियों में गिरावट का संकेत देती है। चीन में कारों की बिक्री में गिरावट और यूरोप व अमेरिका में ऑटो उत्पादन में बाधाओं के बीच यह संकेत स्पष्ट है कि कोरोनावायरस महामारी का प्रभाव बहुत गंभीर हो सकता है और औद्योगिक धातुओं की मांग को इसने कमजोर कर सकता है। हालांकि, उम्मीद है कि महामारी का मुकाबला करने के लिए प्रमुख केंद्रीय बैंकों द्वारा स्टिमुलस उपायों से वैश्विक आर्थिक विकास की चिंताओं को कम किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here