एंजेल ब्रोकिंग ने फिनटेक की लहर पर सवार होकर क्लाइंट बेस में 127% वृद्धि दर्ज की

0
42

Mumbai News, 08 April 2021 : भारत की अग्रणी डिजिटल स्टॉक ब्रोकिंग कंपनियों में से एक एंजेल ब्रोकिंग वित्तीय सेवा कंपनी के रूप में अपनी दशकों पुरानी यात्रा में एक नया अध्याय जोड़ रही है। पिछले एक दशक में डिजिटल परिवर्तन के माध्यम से कई पुरस्कार, सम्मान और विकास हासिल करने के बाद यह अब फिनटेक के स्पेस में नए युग के इनोवेशन लेकर आई है। कंपनी अपनी डिजिटल-फर्स्ट स्ट्रैटजी के माध्यम से अपने ग्राहकों को फुल-सर्विस ब्रोकरेज और एडवायजरी सेवाएं दे रही है और तब से कई डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च कर चुकी है। दिलचस्प बात यह है कि यह वृद्धि नई पीढ़ी के निवेशकों के लिए तकनीकी और वित्तीय सेवाओं को इंटीग्रेट करने के लिए एंजेल ब्रोकिंग के ठोस प्रयासों की बदौलत है। इसने हाल ही में मार्च 2021 तक 4.12 मिलियन ग्राहक हासिल किए हैं, जो पिछले साल इसी अवधि की तुलना में 127% अधिक है।

डिजिटल-फर्स्ट स्ट्रैटजी ने इनोवेशन के लिए आधार बनाया है, जिसके कारण उस औसत भारतीय निवेशक के लिए डिजिटल सेवाएंं उपलब्ध हुई, जो काफी हद तक फाइनेंशियल सिस्टम से बाहर रहा था। यह आवश्यकताओं के अनुसार प्लेटफार्म बनाने के लिए कंपनी की प्रतिबद्धता को दिखाता है। चपलता, लचीलापन और तकनीक को त्वरित रूप से अपनाने से पता चलता है कि एंजेल ब्रोकिंग की स्ट्रैटजी हाल के वर्षों में विकसित हुई है। एनएसई पर सक्रिय ग्राहकों के मामले में एंजेल ब्रोकिंग के डीआईवाई (DIY) अप्रौच ने भारत की तीसरी सबसे बड़ी ब्रोकिंग कंपनी बनने की यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

अगर उपरोक्त आंकड़े कोई संकेत हैं, तो एंजेल के नए क्लाइंट टियर-II और टियर-III शहरों और कस्बों से आते हैं, जो तेजी से डिजिटाइजेशन और इसके लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा बनने का गवाह बन रहे हैं। एंजेल ब्रोकिंग का विकास इनोवेटिव मोबाइल ऐप से समर्थित है, और यह फिनटेक और टेक-आंत्रप्रेन्योर को प्रोत्साहित कर भविष्य की संभावनाओं का पता लगाने का इच्छुक है। इसने एंजेल ब्रोकिंग को स्मार्ट एपीआई जैसे समाधान विकसित करने में मदद की है, जो दिसंबर 2020 तक 10,000 से अधिक रजिस्ट्रेशन हासिल कर चुका है। इस प्रोग्राम ने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म को डिजाइन करने में एक भूमिका निभाई, और एंजेल ब्रोकिंग अब फिनटेक इकोसिस्टम बनाने में मदद कर एक कदम आगे बढ़ा रहा है। कंपनी का ध्यान अब नई पीढ़ी की प्रतिभा और इनोवेशन को प्रोत्साहित करने और इन्हें आगे बढ़ाने के लिए अपने इनक्यूबेशन प्रोग्राम चलाने पर है।

स्मार्ट मनी, स्मार्ट बज़ जैसी पहल को आज निवेशकों के लिए बाजार से संबंधित विश्वसनीय डीआईवाई (DIY) प्रक्रिया माना जाता है, क्योंकि कई लोग बाजारों के बारे में शिक्षित होने और लागत-प्रभावी सेवाओं का लाभ उठाने के लिए उत्सुक हैं। एक्सीलरेटेड मोबाइल पेज (एएमपी) में एआई-चैटबॉट इंटिग्रेशन, एआरक्यू और एआरक्यू प्राइम इन्वेस्टमेंट इंजन, म्यूचुअल फंड में यूपीआई ऑटोपे इंटिग्रेशन, अंतरराष्ट्रीय बाजारों में निवेश करने के इच्छुक निवेशकों के लिए वेस्टेड इन्वेस्टिंग जैसी सुविधाएं पिछले कुछ वर्षों में एंजेल ने अपने ग्राहकों को दी है, ताकि वे अपने ट्रेड्स को सहजता के साथ हैंडल कर सकें। पिछले कुछ वर्षों में एंजेल ब्रोकिंग में एआई-सक्षम टूल्स और अन्य डेवलपमेंट्स इस बात के संकेत है कि एआई, मशीन लर्निंग, और क्लाउड कंप्यूटिंग परिवर्तनकारी हैं, और यह कंपनी के फिनटेक भविष्य में अग्रणी भूमिका निभाने वाले हैं।

फिनटेक को लेकर टिप्पणी करते हुए, श्री प्रभाकर तिवारी, चीफ ग्रोथ ऑफिसर, एंजेल ब्रोकिंग, ने कहा “एंजेल ब्रोकिंग ने भारत के लोगों के लिए शेयर बाजारों के डिजिटलीकरण और लोकतांत्रिकरण के मामले में अब तक महत्वपूर्ण प्रगति की है। हमारा अगला कदम कोलेबोरेटिव इनोवेशन को दोगुना करना है, जिसमें हम नए-पुराने फिनटेक को विकसित और बेहतर बना सकते हैं, जो तब यथास्थिति में बदलाव लाएगा। हम कल के फिनटेक आंत्रप्रेन्योर बनाने की उम्मीद कर रहे हैं और आशा करते हैं कि वे बेहतर भविष्य के लिए भारत के वित्तीय क्षेत्र में बदलाव लांगे।”

टेक इनोवेशन की अगली पीढ़ी में ब्लॉकचेन इत्यादि जैसी उभरती इवेंट्स शामिल होंगी और एंजेल इन क्षेत्रों में निवेश आने वाले कल में लीडर बनने के लिए कर रहा है। फिनटेक प्लेटफॉर्मों ने अब तक विभिन्न सेग्मेंट्स में नए प्रोडक्ट्स और सर्विसेस का नेतृत्व किया है जिसमें आईओटी सहित अन्य क्षेत्र शामिल हैं। नए मॉडलों में निवेश करना, विशेष रूप से एआई, मशीन लर्निंग, और इसके बाद की टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने से हमें देश के विकास लक्ष्यों को तेजी से प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। इससे आगे चलकर आत्मानिर्भर भारत की फिलोसॉफी को समर्थन भी होगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here