उद्यमियों का देश के विकास में अहम योगदान : राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय

0
49
Spread the love
Spread the love

फरीदाबाद, 28 मार्च। हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि उद्यमियों का देश के विकास में अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद इंडस्ट्रीज को भारत के साथ साथ विश्व में पहचान बनाने के लिए सब उद्यमी भागीदार बनें। राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय स्थानीय मैगपाई काम्पलैक्स में All India Forum of MSME द्वारा आयोजित प्रथम “राष्ट्रीय MSME महोत्सव” में उपस्थित लघु उद्यमियों और अन्य मेहमानों को सम्बोधित कर रहे थे।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने आज वीरवार को स्थानीय  मैग्पाई काम्पलैक्स में आयोजित प्रथम एआईएफओएम राष्ट्रीय एमएसएमई महोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने महोत्सव में  उपस्थित सभी अतिथियों, उद्यमियों एवं मीडिया कर्मियों का यहाँ उपस्थित होने पर धन्यवाद किया। वहीं उपस्थित सभी उद्यमियों एवं AIFOM के उज्जवल भविष्य की कामना की।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और अन्य मेहमानों ने दी प्रज्वलित कर महोत्सव का शुभारंभ किया।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने उपस्थित लघु उद्यमियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि एक शिल्पकार से लेकर शहरी क्षेत्र में मौजूद स्टार्ट अप, स्मार्ट solution, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग तक आते है। आज एमएसएमई/ MSME के अंतर्गत न केवल मैन्युफैक्चरिंग एवं सर्विस उद्योग आते है, अपितु व्यापार को भी इसमें शामिल किया गया है। यह केवल आप जैसे उद्यमियों का ही प्रयास है। जिसके द्वारा हमारी अर्थव्यवस्था को ईंधन प्राप्त होता है । इसके साथ ही रोजगार सृजन एवं कर दाता के रूप में आपका योगदान महत्त्वपूर्ण है।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि एक उद्यमी का जीवन चुनौतियों से परिपूर्ण है। इन चुनौतियों के बीच आप द्वारा दिखाए जाने वाले संयम, साहस, जोखिम एवं प्रतिदिन बदलने वाली टेक्नोलॉजी/ technology के मध्य खड़े रहना बहुत ही प्रेरणादायक है। आज की वैश्विक अर्थव्यवस्था के दौर में उद्यमियों द्वारा की गई मेहनत की बदौलत जो एक अच्छा Eco System हमारे देश में उपलब्ध है। उसकी प्रशंसा पूरे देश में की जाती है। इसी के परिणाम स्वरूप है। विकास एवं इनोवेशन को गति प्राप्त हुई है। यदि आंकड़ों की बात करे तो भारतवर्ष की कुल जीडीपी/ GDP में 30 प्रतिशत भागीदारी एवं कुल एक्सपोर्ट में 50 प्रतिशत भागीदारी के साथ साथ 15 करोड़ से अधिक रोजगार देने वाला एमएसएमई/ MSME सेक्टर आज समय की आवश्यकता बन गया है। इस समय 7 करोड़ से अधिक एमएसएमई/ MSME इकाइयों ने अपना “उद्यम पंजीकरण” करवा लिया है, जबकि लगभग इतनी ही इकाइयाँ अभी अपंजीकृत है।

राज्यपाल ने कहा  कि हरियाणा राज्य में 1.5 लाख से अधिक एमएसएमई/MSME इकाइयां है जिनमे से केवल फरीदाबाद जिला में 25000 से अधिक एमएसएमई/ MSME इकाईयां है।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि आज के परिपेक्ष्य में All India Forum of MSME/ एमएसएमई जैसी संस्थाओं का एमएसएमईज/ MSMEs के विकास में अत्यंत महत्वपूर्ण रोल है। AIFOM का निर्माण एमएसएमई / MSME इकाइयों को सभी प्रकार का सहयोग देने के लिए  किया गया है।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने एआई एफओएम /AIFOM के सभी सदस्यों को बधाई देते हुए कहा कि वे राष्ट्रीय स्तर की इस संस्था से जुड़ कर राष्ट्र-निर्माण में अपना योगदान दे रहे है।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने एआईएफओएम/ AIFOM के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री श्याम सुंदर कपूर एवं राष्ट्रीय महासचिव श्री अनिल कुमार चौधरी को हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने इस संस्था का निर्माण करके हजारों उद्यमियों को विकास का एक रास्ता दिखाया है। इसके अतिरिक्त इस राष्ट्रीय महोत्सव के दौरान सम्मान प्राप्त करने वाले सभी अवार्डी/ Awardees को बधाई देते हुए कहा कि उम्मीद करते हैं  कि जो उद्यमी आज अवार्ड/ Award नहीं ले पाये हैं। वे और अधिक मेहनत एवं अच्छा कार्य करेंगे। भविष्य में अवश्य यह अवार्ड/ Award प्राप्त करेंगे।

प्रोफेसर जगदीश मुखी ने कहा कि देश के विकास में स्वयं रोजगार करके लोगों को रोजगार देना अहम योगदान होता है। लघु उद्यमियों द्वारा देश के विकास में विशेष भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने लघु उद्यमियों से आह्वान करते हुए कहा कि वे आधुनिक परिवेश में आधुनिक तकनीकी के सा लघु औद्योगिक इकाइयों का लगातार बढ़ाने के भागीदार बनें रहेंगे।

राष्ट्रीय एमएसएमई महोत्सव में  प्रोफेसर जगदीश मुखी, डा. एन.सी. वाधवा, आईएस (Retd.), श्री श्याम सुंदर कपूर, राष्ट्रीय अध्यक्ष, AIFOM, श्री अनिल कुमार चौधरी, राष्ट्रीय महासचिव, AIFOM, श्री मनी लाल चौधरी, महाप्रबंधक, सिडबी, श्री राकेश सूरज, रीजनल डायरेक्टर, EEPC INDIA मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here