यू एस डॉलर की रिकवरी शुरू होते ही सोने की कीमतों में गिरावट

0
67

New Delhi, 16 June 2020 : वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं ने लॉकडाउन के दौरान नियंत्रण और प्रक्रियाओं में शिथिलता लाकर विकास और निर्यात सुविधाओं को फिर से शुरू करने के तरीकों पर बहस शुरू कर दी है। हालांकि, कोरोना महामारी के पुनरुत्थान और चिंता निवेशकों की उम्मीदों पर असर डाल रही है और बाजार की भावनाओं को प्रभावित कर रही है।प्रथमेश माल्या

एवीपी- रिसर्च नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसीज
एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

सोना
अमेरिकी डॉलर की कीमत बढ़ने से स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.30 प्रतिशत कम होकर 1724.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। इस फेक्टर ने विभिन्न देशों में अन्य मुद्राधारकों के लिए पीली धातु की कीमत को अधिक महंगा कर दिया और परिणामस्वरूप लागत में कमी आई।

वैश्विक बाजार में बढ़ती अनिश्चितताओं ने निवेशकों को अमेरिकी डॉलर की ओर शरण लेने के लिए प्रेरित किया है, जिसे एक सेफ हैवन भी माना जाता है। 9 जून 2020 को समाप्त सप्ताह में निवेशकों ने कॉमेक्स गोल्ड और सिल्वर में तेजी के दांव को रौंद दिया।

हालांकि, महामारी की एक और शक्तिशाली दूसरी लहर की चिंता बनी रही। इसने सोने की कीमत में कमी को सीमित कर दिया। इसके अलावा, अमेरिका में मामलों की लगातार बढ़ती संख्या लागत को स्थिर रख सकती है।

चांदी
स्पॉट सिल्वर की कीमतें 0.06 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 17.4 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 0.62 प्रतिशत की गिरावट के साथ 47393 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं।

कच्चा तेल
डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 2.37 प्रतिशत बढ़कर 37.1 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं। इस वृद्धि को संयुक्त अरब अमीरात के ऊर्जा मंत्री की घोषणा का भी समर्थन मिला कि ओपेक के जिन सदस्यों ने उत्पादन कटौती की पर सहमति की है लेकिन उसका पालन नहीं कर रहे, उन्हें अनिवार्य रूप से अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करना होगा।

चीन के कुछ प्रांतों में नए मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। कोरोनावायरस को लेकर डर 2 मिलियन से अधिक संक्रमित मामलों के साथ यू.एस. में बना हुआ है। इसके अलावा, कई देशों में हवाई और सड़क यातायात पर प्रतिबंध ने क्रूड ऑयल की कीमत में किसी भी तरह की वृद्धि को सीमित किया हुआ है।

बेस मेटल्स

सोमवार को, लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतों में कॉपर को इस समूह में सबसे बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ा।

कीमतों में वृद्धि नहीं हुई क्योंकि अमेरिकी डॉलर के बढ़े हुए मूल्य ने आधार धातुओं को अन्य मुद्रा धारकों के लिए महंगा कर दिया। दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में बढ़ते मामलों के साथ एक टीके के निर्माण को लेकर अनिश्चितता बढ़ रही है, जिससे बाजार की धारणा प्रभावित हुई।
चीन की स्थिर घरेलू मांग और औद्योगिक क्षेत्र में गतिविधियां ठप होने से मई में चीन की कारखाने की गतिविधियां धीमी गति से बढ़ीं।

कॉपर
एलएमई कॉपर 1.33 प्रतिशत की गिरावट के साथ 5707.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ। लॉकडाउन संबंधित स्थितियों और कोरोनोवायरस के मामलों ने उत्पादन और विनिर्माण इकाइयों को प्रभावित किया।

यह देखने की जरूरत है कि वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं के फिर खुलने को सख्त सोशल डिस्टेंसिंग मानदंडों को पर्याप्त रूप से जोड़ा जा सकता है या नहीं। ऐसा प्रतीत होता है कि अर्थव्यवस्था तार्किकता की डिग्री की ओर बढ़ रही है, और बड़ी संख्या में विस्थापित लोगों की जरूरतों को पूरा करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here