KIET ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस को मिला स्वायत्त दर्जा, शैक्षिक गुणवत्ता और नवाचार को मिलेगा बढ़ावा

0
65
Spread the love
Spread the love

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर के अग्रणी इंजीनियरिंग कॉलेजों में से एक, KIET ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस ने स्वायत्त दर्जा हासिल कर लिया है। संस्थान ने इसकी आधिकारिक घोषणा करते हुए इसे एक बड़ा मील का पत्थर बताया। 1998 में कृष्णा चैरिटेबल सोसाइटी द्वारा स्थापित संस्थान की स्वायत्त स्थिति भविष्य में शैक्षिक गुणवत्ता और तकनीकी शिक्षा में नवाचार को बढ़ावा देगी।

स्वायत्त दर्जा प्राप्त करने से KIET को अपने पाठ्यक्रम को स्वतंत्र रूप से डिजाइन और अपग्रेड करने का अधिकार मिलेगा। यह संस्थान को उद्योग की जरूरतों और नई शिक्षण विधियों को अपनाने की अनुमति देता है, जिससे छात्रों के लिए सीखना अधिक व्यावहारिक हो जाएगा।

स्वायत्तता प्रदान करने से KIET को स्वतंत्र रूप से परीक्षा और मूल्यांकन आयोजित करने का अधिकार मिलेगा। केआईईटी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के संयुक्त निदेशक, मनोज गोयल ने कहा कि स्वायत्तता के साथ, अब हम उद्योग और समाज की बदलती मांगों को पूरा करने के लिए अपने पाठ्यक्रमों को बेहतर ढंग से डिजाइन कर सकते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि हमारे छात्र अपने भविष्य के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

KIET ने प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और व्यावहारिक विज्ञान में आधुनिक अनुसंधान को प्राथमिकता देने का निर्णय लिया है। साथ ही, संस्थान एनईपी 2020 के तहत प्रस्तावित ‘मल्टीपल एंट्री मल्टीपल एग्जिट’ (एमईएमई) प्रणाली के कार्यान्वयन पर जोर देगा और उभरते क्षेत्रों के अनुरूप विशिष्ट पाठ्यक्रम विकसित करने के लिए अंतःविषय और बहु-विषयक अध्ययन भी करेगा।

KIET ने नए स्वायत्त ढांचे को चरणों में लागू करने की योजना बनाई है। इसकी शुरुआत पहले वर्ष में पाठ्यक्रम के नए स्वरूप और प्रशासनिक पुनर्गठन के साथ होगी। स्वायत्त संचालन का पूर्ण एकीकरण दो से तीन वर्षों के भीतर होने की उम्मीद है, जिससे यह सुनिश्चित होगा कि सभी हितधारक नई प्रणाली में अच्छी तरह से समायोजित हो जाएं।

संस्थान का लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों और अनुसंधान संस्थानों के साथ साझेदारी के माध्यम से अपने वैश्विक पदचिह्न को मजबूत करना है। संकाय के लिए निरंतर व्यावसायिक विकास कार्यक्रम यह सुनिश्चित करेंगे कि वे नवीनतम शिक्षण और अनुसंधान कौशल से लैस हैं, जो उन्नत शिक्षण और अनुसंधान वातावरण के लिए बुनियादी ढांचे और प्रौद्योगिकी में निवेश में वृद्धि द्वारा समर्थित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here