श्री गणपति के अनन्य स्वरूपों से प्रेरणा प्राप्त कर जीवन को सुंदर दृष्टिकोण प्रदान करें : आशुतोष महाराज

0
24

New Delhi News, 31 Aug 2019 : वह एक ही सत्ता है, जो सभी प्राणियों की अंतरात्मा में विराजमान है| वही सत्ता अपने एक स्वरूप को बहुत प्रकार का बनाकर अभिव्यक्त करती है| श्री गणपति भी ऐसी ही एक दिव्य सत्ता हैं| एक विचित्र स्वरूप के स्वामी! उनके इस ‘एक’ अद्भुत रूप की ‘अनेकों’ अभिव्यक्तियाँ आज समाज में प्रचलित हैं| अनेक संकेत, अनेक व्याख्याएँ उनके प्रत्येक अंग से जोड़ी जा चुकी हैं|गणेश पुराण मेंभगवान गणेश के 32 स्वरूपों की दिव्य व्याख्या की गई है| आइए भगवान गणपति के कुछ अवतारी रूपों से प्रेरणा प्राप्त कर, अपने जीवन को एक सुंदर दृष्टिकोण व दिशा प्रदान करें|

‘भक्त गणपति’- भगवान के 32 स्वरूपों में से तीसरे अवतार हैं। भक्त स्वरूप गणपति चाँदी सरीखे श्वेत रंग में प्रकट होते हैं| श्वेत वर्ण शांति और सौम्यता को दर्शाता है| मुख्यतः यह स्वरूप ‘भक्ति रस’ का प्रतीक है| भक्त गणपति के दिव्य हस्तों में गुड़-रस, मीठा आम, केला और जलयुक्त कच्चा नारियल- ये सभी पदार्थ सरस और मधुर भक्ति के संकेत देते हैं| भक्ति स्वरूप गणपति हमें भक्ति रस की मिठास पाने की प्रेरणा देता हैं| भक्ति एवं सतत नाम-स्मरण कर मन को शुद्ध और शीतल बनाना सिखाते हैं|

‘द्विज’ भगवान गणपति का छठा अवतारी स्वरूप है| ‘द्विज’ का अर्थ होता है, जिसका जन्म दो बार हुआ है| यह द्विज शब्द हमें उस घटना का स्मरण कराता है, जब भगवान शिव गणेश जी का सिर धड़ से अलग करने के पश्चात् एक हाथी के सिर से बदल देते हैं| यही कार्य पूर्ण गुरु भी किया करते हैं| वह शिष्य को ब्रह्मज्ञान प्रदान कर उसे अंतर्जगत में दूसरा जन्म देते हैं अर्थात उसे द्विज बनाते हैं| उसके संकीर्ण दृष्टिकोण को ध्वस्त कर उसे उदार और विवेकपूर्ण सूझबूझ का स्वामी बनाते हैं| द्विज गणपति के चार शीश ब्रह्मज्ञान द्वारा प्राप्त होने वाली चार दिव्यनुभूतियों (पदार्थ) के प्रतीक हैं, जो सद्गुरु कृपा से अंतर्जगत में अनुभव होती हैं| ये अनुभूतियाँ हैं– दिव्य प्रकाश का दर्शन, अनहद नाद का श्रवण, आदिनाम का सुमिरन और अमृत का पान| अतः द्विज गणपति हमें पूर्ण गुरु से ब्रह्मज्ञान प्राप्त कर दूसरा या आध्यात्मिक जन्म पाने की प्रेरणा देते हैं| अंतर्जगत में अलौकिक अनुभूतियों का आनंद पाने हेतु प्रेरित करते हैं|

‘एकाक्षर’ गणपति का सत्रहवां अवतारी स्वरूप है| इसमें मूषक प्रतीक है, हमारे चंचल मन का| पद्मासन में मूषक की सवारी करना यही दर्शाता है कि चंचल मन को केवल ध्यान-साधन द्वारा ही नियंत्रित किया जा सकता है| कैसा ध्यान? कैसी साधना? वह ध्यान जिसकी शुरुआत सद्गुरु द्वारा तीसरे नेत्र के सक्रिय होने के बाद होती है| तीसरे नेत्र के जागृत होते ही आंतरिक चंद्रमा या प्रकाश का साक्षात्कार होता है| यही नहीं, ‘एकाक्षर’ आदिनाम भी साधक की श्वासों में प्रकट हो जाता है| अतः एकाक्षर गणपति हमें ब्रह्मज्ञान की ध्यान-साधना, श्वास-श्वास में नाम सुमिरन द्वारा अपने चंचल और कुतर्की मन की सवारी (नियंत्रित) करने की प्रेरणा देते हैं|

‘वरद’ भगवान गणेश का अठारहवाँ अवतार है| गणेश जी का यह अवतार वरदान प्रदाता के रूप में प्रसिद्ध है| जीवन में वरदान की प्राप्ति कब होती है? यह वरद गणपति का स्वरूप हमें समझाता है| इनके हाथों में अंकुश वे कमंद है, जो अनुशासित और नियंत्रित जीवन के प्रतीक हैं| जब एक साधक नियमबद्ध और संयमित जीवन की सतत साधना करता है, तब उस पर वरदानों की वर्षा होती है| उसे कुछ भी माँगने की आवश्यकता नहीं रहती| बड़ी सहजता से स्वतः ही उसकी झोली में नियामतें बरस जाती हैं| कैसी नियामतें? भक्ति के अलंकारों व आभूषणों से ऐसे साधक का शृंगार होने लगता है| सूंड में स्थित आभूषणों की संदूक प्रतीक है कि भक्ति का खजाना उसके हाथ लग जाता है| दूसरा, शक्ति स्वरूपा देवी प्रतीक हैं कि ऐसे साधक का जीवन शक्तिमान व ऊर्जापूर्ण रहता है| तीसरा, शहद का प्याला दर्शाता है कि ऐसे साधक को साक्षात् रस स्वरूप ईश्वर अर्थात मुक्ति प्राप्त हो जाती है| अतः वरद गणपति हमें सिखाते हैं कि एक अनुशासनबद्ध साधक सहजता से भक्ति, शक्ति व मुक्ति का वरदान पा लेता है|

विघ्न गणपति नवें अवतार हैं| हम अपने जीवन के विघ्न दूर करने के लिए अनेक विधाओं, पूजनों व कर्म-कांडों को अपनाते हैं| पर विघ्न गणपति हमें विघ्न हरने की बड़ी प्रयोगात्मक कला सिखाते हैं| जानते हैं, जीवन में विघ्न किस कारण से आते हैं? हमारे अपने ही कर्म-संस्कारों के कारण! हमारे कर्म और संस्कार ही फलीभूत होकर विघ्न बन सामने अड़ जाते हैं| विघ्न गणपति की अष्टभुजाओं में धारण की गई आठ वस्तुओं को ध्यान से देखें तो इन्हें दो वर्गों में बाँटा जा सकता है| एक वर्ग है- धारदार शस्त्रों और नियंत्रणकारी आयुधों का- पैना दाँत, कुल्हाड़ी, चक्र, कमंद व अंकुश| यह वर्ग जीवन के पुराने अथवा पूर्व संचित संस्कारों को नष्ट-भ्रष्ट करने की प्रेरणा देता है| माने, ध्यान के धारदार शस्त्र से संस्कारों का नाश करो| दूसरा वर्ग है- सौम्य व सरस वस्तुओं का- गन्ना, मोदक व फूल वाला तीर| ये वस्तुएँ हमें निष्पाप, सरल, सरस, सकारात्मक अर्थात् भक्तिमय जीवन जीने को प्रेरित करती हैं| मधुर कर्म-व्यवहार करने की शिक्षा देती हैं, ताकि आगे नए और बुरे कर्म-संस्कार न बन सकें, जो विघ्नकारी हों| विघ्न गणपति हमें पूर्व संस्कारों को समाप्त करके और कुकर्मों से दूर रहकर ‘विघ्नहारी’ जीवन जीने की प्रेरणा देते हैं| दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से श्री गणेश चतुर्थी के पावन अवसर की हार्दिक शुभकामनाएँ!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here