द्वेष भावना छोड़ क्षेत्र के विकास पर ध्यान दें निर्दलीय विधायक : टेकंचद शर्मा

0
190

Faridabad News, 24 Oct 2020 : पृथला विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं वरिष्ठ भाजपा नेता पं. टेकचंद शर्मा ने मौजूदा निर्दलीय विधायक नयनपाल रावत पर अपने द्वारा किए गए विकास कार्याे का पत्थर हटाकर स्वयं अपना पत्थर लगाकर उद्घाटन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि विधायक रावत एक साल के कार्यकाल के दौरान क्षेत्र के विकास के लिए एक रूपए की ग्रांट तक नहीं ला पाएं और अब वह द्वेष भावना की राजनीति करते हुए उनके कार्यकाल में हुए विकास कार्याे के पत्थर हटाकर अपने पत्थर लगाकर जनता में झूठी वाहवाही लूटने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को विधायक नयनपाल रावत ने गांव फतेहपुर बिल्लौच में जिस सैनी चौपाल का उद्घाटन किया है, उसका शिलान्यास उन्होंने 31 जनवरी, 2018 को किया था वहीं 19 सितंबर, 2019 को इस चौपाल का उद्घाटन कर इसे जनता को समर्पित कर दिया था। उसी चौपाल का पत्थर हटवाकर विधायक ने अपने नाम का पत्थर लगाकर दोबारा उद्घाटन करके अपनी औंछी मानसिकता का परिचय दिया है। उन्होंने निर्दलीय विधायक को नसीहत देते हुए कहा कि वह इस प्रकार की औछी हरकतें छोड़ क्षेत्र के विकास के लिए मुख्यमंत्री से ग्रांट लाएं तो वह स्वयं उनके कंधे से कंधा मिलाकर उनका सहयोग करेंगे।  श्री शर्मा शनिवार को अपने सीकरी स्थित कार्यालय पर पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। पूर्व विधायक टेकचंद शर्मा ने कहा कि 2014 के विधानसभा चुनाव में विजयी होने बाद उन्होंने मनोहर सरकार को समर्थन देते हुए अपने 5 साल के कार्यकाल में करीब 2500 करोड़ रुपए के विकास कार्य करवाकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया था और वहीं मनोहर लाल उस दौरान भी मुख्यमंत्री थे और आज वह वही मुख्यमंत्री है, जबकि नयनपाल रावत पिछले एक साल के दौरान क्षेत्र में विकास कार्य करवाने तो दूर उनके कार्यकाल के जो अधूरे विकास कार्य रह गए थे, उन्हें भी एक साल में पूरा नहीं करवा पाए। श्री शर्मा ने कहा कि इस कोरोना काल में जहां केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, कैबिनेट मंत्री पं. मूलचंद शर्मा, विधायक सीमा त्रिखा अपने-अपने क्षेत्रों में करोड़ों के विकास कार्य सम्पन्न करवा चुके है, जबकि नयनपाल रावत क्षेत्र विकास के लिए ग्रंाट दिलवाने में पूरी तरह से विफल साबित हुए है। उन्होंने अधूरे विकास कार्याे का जिक्र करते हुए कहा कि रैनीवेल योजना का 20 प्रतिशत कार्य अभी भी अधूरा पड़ा है, जबकि मोहना गर्वमैंट कालेज व आईटीआई सिकरौना में आज तक कक्षाएं शुरू नहीं हुई वहीं लहडौली मोड से बस अड्डे तक की फिरनी के लिए 58 लाख रूपए मंजूर हो चुके है, जिस पर कार्य अभी तक शुरू नहीं हुआ। इसके अलावा ऑल इंडिया मेडिकल अस्पताल के लिए 22 करोड़ रूपए मंजूर हुए पड़े है। इसके अलावा अनेकों ऐसे विकास कार्य है, जिन्हें विधायक एक वर्ष के दौरान भी पूरा नहीं करवाए, इससे पता चलता है कि वह क्षेत्र के विकास के लिए कितने गंभीर है। उन्होंने कहा कि फतेहपुर सैनी चौपाल के पुन: उद्घाटन मामले को लेकर गांव में जल्द एक पंचायत का आयोजन किया जाएगा, जिसमें ग्रामीणों को वास्तुस्थिति से अवगत करवाया जाएगा। इस अवसर पर बाबूराम वशिष्ठ, इंद्रवीर, सुरेंद्र सिंह, सुरेश कुमार वकील, तेजपाल, राधेलाल सैनी, रमन बौहरे, दिनेश शर्मा सहित अनेकों ग्रामीण मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here