सलाम किसान ने कि किसानों के लिए FPO के साथ ड्रोन छिडकावं कि शुरुवात

0
239
Spread the love
Spread the love

24 अगस्त 2023 : किसानों को प्रभावशाली तकनीक से सशक्तीकरण करणे के लिये सलाम किसान भारत का एक फास्ट-ग्रोइंग डेटा-संचालित कृषि प्लेटफॉर्म आधारित छिड़काव सेवा शुरु कि है| यह सेवा चंद्रपूर जिले महाराष्ट के किसानों के लिये FPO के माध्यम से किराये पर उपलब्ध है इस महत्वपूर्ण पहल का उदघाटन महाराष्ट सरकार के वित्त और योजना मंत्री, सुधीर मुनगंटीवारजी ने रानभाजी महोत्सव 2023 के दौरान स्वत्रंतता दिवस पर किया ।उन्होने कंपनी द्वारा प्रदान किये गये ।एक ड्रोन कि मदत से राष्ट्रीय ध्वज लहराया ।इस पहल के माध्यम से,सलाम किसान का उद्धेश किसानों को कटिंग इज टेक्निक प्रदान करणा है जो कि उनकी कृषी प्रथाओ को सुधाने मे मदत करेगा और साथ हि साथ विकसित उपयोग कि और योगदान करेगा।

इस पहल के तहत, सलाम किसान ने किसानों के लिए ड्रोन छिड़काव सेवाओं को आसानी से पहुंचने और किसी भी किसानों के लिए सुलभ और किफायती बनाने के लिए फार्मर्स’ प्रोड्यूसर आर्गेनाइजेशन (एफपीओज) के साथ मिलकर काम किया है। ड्रोन को एक प्रभावी और आसाण समाधान बनाकर, कंपनी का उद्देश्य किसानों को कटिंग-एज स्प्रेइंग क्षमताओं से लैस करना है, जिससे कीट प्रबंधन और कृषि रसायनों का सटीक उपयोग सुरक्षित रूप से हो सके। यह 85 – 90% जल अपव्यय और 20-30% उत्पाद उपयोग को कम करता है, जो कि सतत कृषि की दिशा में एक बडा कदम है ।

FPO को प्रत्येक छिड़काव आर्डर (एकड़पे आधारित) पर एक आर्थिक प्रोत्साहन प्राप्त होगा। किसानों के इनपुट लागत को कम करके, संचालन क्षमता में सुधार करके, और मूल्यवान संसाधनों की संरक्षण करके, यह स्ट्रेटेजिक पहल FPO को वित्तीय लाभ और उन्नति प्रदान करने का उद्देश्य रखती है।

स्वतंत्रता दिवस के उद्घाटन समारोह में भारत की कृषि प्रगतिकि बडी हस्तिया थी जिन्होने महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनके साथ सलाम किसान के विशेष मार्गदर्शक भी थे, जिनमें अक्षय खोब्रागडे, COO परेश कुल्लरकर, कृषि-संचालन प्रबंधक, और प्रथम ड्रोन पायलट राज सिदाम और अमोल कोहरे शामिल थे।

सलाम किसान के संस्थापक और CEO, धनश्री मानधनी , ने कहा, “सलाम किसान में हम ग्रामीण समुदायों के सशक्तीकरणपर काम कर रहे है| ।यह परिवर्तन करणे के लिये व्यापार और सरकार को साथ काम करना होगा| हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण में विश्वास करते हैं कि एफपीओज छोटे किसानों को महान शक्ति प्रदान करेंगे और सरकार और सहकार का संगठन हमें विकसीत भारत की ओरले जायेगा । हमारी राष्ट्रीय कृषि नीति का उद्देश्य 2025 तक 10,000 नए एफपीओज स्थापित करना है जिसमें कृषि मूल्य श्रृंखलाओं को नया दृष्टिकोण देना और ग्रामीण क्षेत्रों में लॉजिस्टिक्स की वृद्धि को प्रोत्साहित करना है। स्वतंत्रता दिवस के इस मौके पर एफपीओज के साथ सहयोग में ड्रोन-आधारित छिड़काव सेवा का उद्घाटन करना हमारे इस दृष्टिकोण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि है।”

“सामान्यता से, पारंपरिक पंप स्प्रेइंग प्रति एकड़ में 100-120 लीटर पानी का उपयोग करता है, जबकि ड्रोन स्प्रेइंग प्रति एकड़ में 10 लीटर पानी का उपयोग करता है। पारंपरिक छिड़काव समय लेता है और मैन्युअल श्रम की आवश्यकता होती है, जबकि ड्रोन स्प्रेइंग 7 मिनट लेता है। किसानों को ड्रोन सेवा प्रदान करके, हम इनपुट लागत को कम करने मी मदत कर राहे है।प्रदर्शन क्षमता को बढ़ाने, और किसानों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में। मूल रूप से, हमारा उद्देश्य किसानों, हमारे कृषि पारिस्थितिकी, और एफपीओज को लाभ पहुंचाने का है। हमें गर्व है कि माननीय मंत्री सुधीर भाई मुनगंटिवार द्वारा हमारे दृष्टिकोण की प्रशंसा प्राप्त हुई है।” ऐक्शय खोब्रागडे, सीओओ, सलाम किसान, ने यह कहा।

राज सिदाम और अमोल कोहरे सलाम किसान द्वारा बनाए गए चंद्रपुर जिले के पहले आदिवासी ड्रोन पायलट हैं, जिन्हें माननीय मंत्री श्री. सुधीर मुनगंटीवार द्वारा सम्मानित किया गया है और यह दोनो कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण थे। सलाम किसान का दृष्टिकोण महिला-नेतृत्व और जनजाति-नेतृत्व वाले एफपीओज के साथ रणनीतिक सहयोगों तक फैलता है। ये साथी महिला-नेतृत्व वाले एफपीओज को आवश्यक ज्ञान, उपकरण, और संसाधन प्रदान करते हैं ताकि कृषि पारिस्थितिकी में उनकी सफलता हो सके। कौशल विकास को पोषण देने, बाजार पहुँच की सुविधा प्रदान करने, और मूल्य श्रृंखला एकीकरण को प्रोत्साहित करके, सलाम किसान इन एफपीओज के लिए एक सुसंभावना पूर्ण वातावरण बनाता है ताकि वे कृषि क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान कर सकें।

सलाम किसान एक तेजी से बढ़ते हुए डेटा-संचालित कृषि पारिस्थितिकी है, जो कृषि पारिस्थितिकी के हिस्सेदारों के लिए सेंट्रलाइज्ड समाधान प्रदान करती है। वे किसानों को प्री-बोना से पोस्ट-हार्वेस्ट तक कई समाधान प्रदान करते हैं, जैसे कि एआई-सक्षम फसल योजना कैलेंडर, उपकरण किराए पर लेना, ड्रोन किराए पर देने की सेवाएँ, स्टोरेज सुविधाएँ, और उत्पाद विपणन स्थल, आदि। सिर्फ 7 महीनों में, उन्होंने भारत के 7,000 गांवों में 22,000 से अधिक किसानों की सेवा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here