अप्रैल 2024 में हॉस्पिटैलिटी, तेल एवं गैस और एफएमसीजी सेक्टर में मिलीं सबसे ज्यादा नौकरियाँ : नौकरी जॉबस्पीक

0
84
Spread the love
Spread the love

भारत, 15 मई 2024 : अप्रैल 2024 में भारत में व्हाइट-कॉलर भर्ती का प्रमुख सूचकांक, नौकरी जॉबस्पीक इंडेक्स 2643 पर रहा। ये पिछले महीने (मार्च 2024) की तुलना में सपाट रहा। वहीं, पिछले साल अप्रैल की तुलना में इसमें 3 फीसदी की गिरावट आई। हालांकि, सामान्य रूप से नौकरी बाजार की धारणा में कुछ सुधार देखने को मिला है। हॉस्पिटैलिटी, तेल और गैस और एफएमसीजी जैसे सेक्टरों में नियुक्तियों में बढ़ोतरी देखने को मिली है। गैर-मेट्रो शहरों ने महानगरों को पीछे छोड़ते हुए अपना मजबूत प्रदर्शन जारी रखा है। वहीं, सीनियर प्रोफेशनल्स के लिए माँग में तेजी आई है। अनुभवी उम्मीदवारों के लिए माँग में सालाना आधार पर अच्छी वृद्धि देखने को मिली है।

हॉस्पिटैलिटी सेक्टर ने मजबूत उछाल दर्ज की

ट्रैवल और टूरिज्म में ग्रोथ के कारण अप्रैल 2024 में हॉस्पिटैलिटी और ट्रैवल सेक्टर में मिलने वाली नौकरियों में अप्रैल 2023 की तुलना में सालना आधार पर 16% की जोरदार ग्रोथ देखने को मिली है। दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जैसे बड़े शहरी केंद्रों में फ्रंट ऑफिस मैनेजर, हाउसकीपिंग सुपरवाइज़र और एफऐंडबी सर्विस प्रोफेशनल जैसे पदों की खूब माँग रही।

तेल एवं गैस सेक्टर के कारण नौकरी में बढ़ोतरी में तेजी आई

तेल एवं गैस सेक्टर ने अप्रैल 2024 में सालाना आधार पर 15% ज्यादा लोगों को नई नौकरियाँ दी। पेट्रोलियम इंजीनियरों, ड्रिलिंग इंजीनियरों और प्रोडक्ट ऑपरेटरों जैसे कर्मियों के लिए काफी ज्यादा माँग देखने को मिली। इस सेक्टर में ज्यादातर नियुक्तियाँ अहमदाबाद, वदोदरा और जयपुर में हुईं।

ग्रामीण माँग पर निर्भर है एफएमसीजी सेक्टर

ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ती माँग के कारण अप्रैल 2023 की तुलना में अप्रैल 2024 में एफएमसीजी सेक्टर में नियुक्तियों में 11% की वृद्धि देखने को मिली है। इस सेक्टर में सेल्स मैनेजर, सप्लाई चेन एग्जीक्यूटिव और ब्रांड मैनेजर जैसे पदों के लिए सबसे ज्यादा माँग आई। इस वृद्धि में मुंबई, कोलकाता और चेन्नई का प्रमुख योगदान रहा।

एआई और एमएल में कुशल लोगों की माँग बनी हुई है

जहाँ अप्रैल 2024 में आईटी सेक्टर की रोजगार दर में सालाना आधार पर 2% की मामूली ग्रोथ देखने को मिली, वहीं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग से संबंधित जॉब्स में तेज ग्रोथ जारी रही। इनमें पिछले साल की तुलना में नियुक्तियों में 19% की ग्रोथ दर्ज की गई।

इस अवधि में नई जॉब देने के मामले में मिनी मेट्रोज सबसे आगे रहा, जबकि महानगर में वृद्धि की रफ़्तार स्थिर थी। अहमदाबाद (सालना 10% से ज्यादा ग्रोथ) और वदोदरा (8% से ज्यादा) जैसे गैर-मेट्रो शहर नई नियुक्तियों के हॉटस्पॉट के रूप में उभरे हैं। जबकि, दिल्ली-एनसीआर, मुंबई और पुणे जैसे मेट्रो शहरों में जॉब ग्रोथ रेट स्थिर रही है।

सीनियर प्रोफेशनल्स के लिए ज्यादा माँग

अनुभवी प्रोफेशनल्स की माँग ऊँची बनी हुई है। 13-16 साल के अनुभव वाले उम्मीदवारों के लिए माँग में सालाना आधार पर 9% की बढ़ोतरी देखने को मिली है। वहीं, 16 साल से ज्यादा के अनुभव वाले लोगों की भर्ती में 21% की मजबूत वृद्धि दर्ज हुई। हालांकि, अनुभवी प्रोफेशनल्स के लिए मजबूत माँग के विपरीत एंट्री लेवल की नियुक्तियाँ कम रहीं हैं।

Naukri.com के चीफ बिजनेस ऑफिसर, डॉ. पवन गोयल ने कहा, “हालांकि ओवरऑल इंडेक्स सपाट है लेकिन हॉस्पिटैलिटी, तेल और गैस और एफएमसीजी में अच्छी ग्रोथ के साथ नए वित्तीय वर्ष की अच्छी शुरुआत हुई है। गैर मेट्रो शहरों ने मेट्रो शहरों की तुलना में अपना बेहतर प्रदर्शन जारी रखा है। यह आने वाले महीनों के लिए भारतीय रोजगार बाजार के लिए एक अच्छा संकेत है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here