मानव रचना ने वर्ल्ड नंबर 1 डब्ल ट्रैप शूटर अंकुर मित्तल का किया सम्मान

0
1415
Spread the love
Spread the love

Faridabad News : मानव रचना शैक्षणिक संस्थान (एमआरईआई) के स्टूडेंट्स ने एक बार फिर खेल के क्षेत्र में इतनी बड़ी उपलब्धि प्राप्त कर संस्थान को गौरांवित किया है। मानव रचना इंटरनैशलन यूनिवर्सिटी (एमआरआईयू) एमबीए स्टूडेंट अंकुर मित्तल ने मैन्स डब्ल ट्रैप कैटिगरी में पहला स्थान हासिल कर संस्थान को ही नहीं देश को भी गौरांवित किया है। आईएसएसएफ के द्वारा हॉल ही में जारी की गई रैंकिंग में अंकुर वर्ल्ड नंबर 1 डब्ल ट्रैप शूटर बना है।

अंकुर को सम्मानित करने के लिए शुक्रवार को मानव रचना में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर अंकुर को सम्मानित करते हुए मानव रचना के वाइस प्रेसिडेंट डॉ. अमित भल्ला ने कहा कि मानव रचना खेलों को शिक्षा का अहम हिस्सा मानता है और इसी सोच के साथ नैशनल व इंटरनैशनल स्तर के खिलाड़ियों को स्टेट आफ द आर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ तैयार किया जाता है। हॉल ही में नैशनल राइफल असोसिएशन ऑफ इंडिया के द्वारा ओलंपिक लेवल शूटिंग रेंज का उद्घाटन कैंपस में किया गया है।

इस मौके पर प्रतिभाशाली शूटर रोंजन सोढ़ी, मानव रचना इंटरनैशनल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. एनसी वाधवा, मानव रचना के डायरेक्टर स्पोर्ट्स सरकार तलवार, फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज की डीन डॉ. छवि भारगव मौजूद रहीं।

इस मौके पर सभी का आभार प्रकट करते हुए अंकुर मित्तल ने कहा कि आज मैं बहुत खुश हूं कि मैं अपने देश के लिए यह सम्मान हासिल करने में काबिल बना। इसके लिए मैं राज्य सरकार, स्पोर्ट्स अथॉरिटी व मानव रचना का धन्यवाद करना चाहता हूं क्योंकि मुझे हर कदम पर इनसे सभी जरूरी सहयोग प्राप्त हुआ। इसी सहयोग के कारण में नंबर वन के पद तक पहुंच पाया। अंकुर ने बताया कि उन्होंने साल 2014 में मानव रचना का हिस्सा बने। उन्होंने कहां कि बहुत ही कम यूनिवर्सिटी होती हैं जो उच्च शिक्षा के साथ साथ खेलों की भी सुविधाएं स्टूडेंट्स को मुहैया कराती हैं और मानव रचना उन्हीं में से एक हैं।

इस मौके पर सरकार तलवार ने अंकुर मित्तल के लिए प्रशंसात्मक उल्लेख पढ़ा।

अंकुर मित्तल का अब तक का सफर
अंकुर मित्तल ने पिछले एक साल में देश को गौराव प्रदान करने में कोई कमी नहीं छोड़ी। अंकुर ने सबसे पहले भारत में फरवरी में आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में सिल्वर मेडल हासिल किया और उसी के बाद मैक्सिको में आयोजित हुए वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल प्राप्त किया। केवल यहीं नहीं एशियन चैंपियनशिप में प्रतिभाशाली शूटरों के साथ खेल कर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया और सिंतबर में मोस्को में आयोजित की गई आईएसएसएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप में बेहतर स्कोर कर (145-150) अपने ही जर्मनी में बनाए गए नैशनल रेकार्ड (144-150) को तोड़ दिया। वह डब्ल ट्रैप इवेंट में सबसे ज्यादा स्कोर करने वाला खिलाड़ी बना और सिल्वर मेडल पर कब्जा किया। अपने इन्हीं गौरवशाली पारियों की मदद से वह रैंकिंग में डब्ल ट्रैप शूटिरों की लिस्ट में सबसे ऊपर पहुंचा है। अंकुर, रोंजन सोढ़ी के बाद दूसरा भारतीय खिलाड़ी बना है जिसने यह स्थान हासिल किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here