अनिल विज के दबाव में PGI के डायरेक्टर ने दिया इस्तीफा

0
545

Rohtak News : बच्चा चोरी प्रकरण में पीजीआइएमएस प्रशासन में हड़कंप तो उसी समय से मचा हुआ था, लेकिन उस समय भूचाल आ गया, जब प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने डायरेक्टर और एक अन्य उच्च अधिकारी से इस्तीफा मांग लिया। पीजीआई के डायरेक्टर ने अपना इस्तीफा वीसी को सौंप दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार शाम पांच बजे वीसी ऑफिस में पहुंचकर डायरेक्टर राकेश गुप्ता ने अपना इस्तीफा दे दिया। वहीं जिस दूसरे उच्च अधिकारी से इस्तीफा मांगा गया था। उन्होंने अपना इस्तीफा नहीं दिया है। देर रात चंडीगढ़ से चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह ने इस इस्तीफे की पुष्टि की है।

लापरवाही का था ये आरोप
बता दें कि गत दस सितंबर को पीजीआई गायनी विभाग से एक बच्चा चोरी होने का मामला आया था। पीजीआई के कैमरों को चेक किया तो वहां पर जांच में पाया गया था कि गायनी विभाग के पिछले तीन माह से कैमरे खराब पड़े थे। डायरेक्टर को इस संबंध में कई बार पीजीआई स्टाफ ने कैमरे ठीक कराने के लिए बोला था, लेकिन उन्होंने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया और जिस कारण यह वारदात हुई। दो सप्ताह का समय बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं।

परिजन और एसोसिएशन का था दबाव
बच्चा चोरी के मामले में पीजीआई प्रशासन ने गायनी विभागाध्यक्ष डॉक्टर स्मिति एवं डॉक्टर बिजेंद्र को चार्जशीट कर दिया था। इसके अलावा कई गार्ड और अन्य कर्मचारियों को हटा दिया गया था। परिजन दस सितंबर से ही गायनी विभाग के सामने धरना दे रहे हैं। उनकी मांग थी कि पीजीआई के बड़े अफसरों पर कार्रवाई की जाए। वहीं हाल ही में हरियाणा मेडिकल एसोसिएशन की भी एक मीटिंग हुई थी। जिसमें उन्होंने डायरेक्टर की गलती को माना था।

पहले भी चल रहे कई मामले
पीजीआई के डायरेक्टर डॉक्टर राकेश गुप्ता के बारे में जब पड़ताल की गई तो पता चला कि उन पर पहले भी कई मामलों में लापरवाही का आरोप लग चुका है। जिनकी फाइल चंडीगढ़ गई हुई थी। हालांकि इन फाइलों पर अभी जांच भी हो रही है। सूत्रों का कहना है कि पुराना रिकॉर्ड देखने के बाद और बच्चा चोरी की घटना को लेकर ही प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने इस्तीफे की मांग की है। इसी कारण डायरेक्टर ने इस्तीफा दिया है।

13 दिन से चल रहा है आंदोलन
पीजीआई के गायनी विभाग से बच्चा चोरी के मामले को लेकर परिजन उसी समय से आंदोलन कर रहे हैं। उन्होंने हाल ही में अशोका चौक पर जाम भी लगाया था। इसके अलावा उन्होंने बाजार बंद करने की चेतावनी भी दी थी। परिजनों की मांग थी कि बच्चा चोरी होने में बड़े अधिकारी की लापरवाही है। इसलिए उन पर कार्रवाई की जानी चाहिए।

सवा दो साल पहले हुए थे डायरेक्टर रिटायर
पीजीआई के सूत्रों ने बताया कि पीजीआइ के डायरेक्टर डॉक्टर राकेश गुप्ता सवा दो साल पहले रिटायर हो चुके थे। उन्होंने पीजीआई में अपनी सेवाए देने के लिए एक्सटेंशन ले लिया था। पीजीआई से मिली जानकारी के अनुसार, वह जून 2018 में उनका एक्सटेंशन वाला कार्यकाल भी पूरा होने वाला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here