एमजी मोटर इंडिया ने एमजी ताल सीजन 2 के विजेताओं की घोषणा की

0
71

गुरूग्राम, 27 जनवरी, 2023: एमजी मोटर इंडिया ने होनहार बैण्‍ड नवाजिशें और सोलो आर्टिस्‍ट शरद सिंह को एमजी ताल सीजन 2 ‘नया सफर, नई ताल’ का विजेता घोषित किया है। एमजी ताल एमजी के ब्राण्‍ड पिलर ‘एक्‍सपीरियेंस’ के तहत एक अनूठी पहल है, जिसमें यह ब्राण्‍ड इंडी म्‍यूजिक आर्टिस्‍ट्स को सम्‍मान देता है और उनकी प्रशंसा करता है। ब्राण्‍ड ने यह म्‍यूजिक प्रॉपर्टी दो साल पहले बनाई थी, जब भारतीय म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री में इंडी म्‍यूजिक की बढ़ती लोकप्रियता देखने को मिल रही थी।

एमजी मोटर इंडिया संगीत को एक अनुभव मानती है, जोकि लोगों को उसके ब्राण्‍ड के करीब लाता है और इसलिये विजेताओं को अपने म्‍यूजिक वीडियोज बनाने में एमजी का साथ मिलेगा। इन वीडियोज को डिजिटल और फिजिकल प्‍लेटफॉर्म्‍स पर बढ़ावा दिया जाएगा।

इससे पहले, ब्राण्‍ड ने एक टैलेंट हंट चलाया था, जिसमें पूरे भारत से 500 से ज्‍यादा आर्टिस्‍ट एंट्रीज और 1000 से ज्‍यादा कंटेन्‍ट पीस मिले थे। इतनी अच्‍छी प्रतिक्रिया मिलने के कारण प्रोग्राम को 6 और कलाकारों के लिये बढ़ाने का फैसला अब अंतिम रूप ले चुका है। एमजी इन 6 कलाकारों में से हर एक के साथ ऐसे गीतों पर वीडियोज की एक सीरीज बनाएगी, जो उन्‍होंने बनाए हैं और इस प्रकार नई प्रतिभा को इंडी म्‍यूजिक कम्‍युनिटी के बीच बढ़ावा मिलेगा।

रोमांचक अनुभवों के लिये संगीत का इस्‍तेमाल करते हुए एमजी मोटर ने संगीत पर आधारित यह प्रॉपर्टी विकसित की है, जिसमें ब्राण्‍ड की सोनिक आइडेंटिटी और ब्राण्‍ड के शोरूमों में उसका संगीत और ब्राण्‍ड एंथेम शामिल है।

सीजन 1 में, एमजी ने दो बेहतरीन एक्‍ट्स पर काम किया- सूरत की बेहतरीन धुनों का फ्यूजन ‘द तापी प्रोजेक्‍ट’ और पुणे का जादुई गीतों वाला एक मल्‍टी-जोनर एक्‍ट ‘फिडलक्राफ्ट। इस प्रकार बने म्‍यूजिक वीडियोज को एक मिलियन से ज्‍यादा व्‍यू और 500 से ज्‍यादा यूजर-जनरेटेड वीडियोज मिले। ब्राण्‍ड एमजी ताल के दूसरे संस्‍करण में और ज्‍यादा रोमांचक होने की उम्‍मीद कर रहा है।

एमजी मोटर इंडिया के विषय में
साल 1924 में यूके में संस्‍थापित, मोरिस गैराजेस के वाहन स्‍पोर्ट्स कार्स, रोडस्‍टर्स और कैब्रियोलेट सीरीज के लिये विश्‍व-प्रसिद्ध थे। अपनी स्‍टाइलिंग, सुंदरता और उत्‍साही प्रदर्शन के कारण एमजी के वाहन कई सेलीब्रिटीज की पसंद थे, जैसे ब्रिटिश प्रधानमंत्री और ब्रिटिश राज परिवार भी शामिल हैं। यूके के एबिंगडन में साल 1930 में स्‍थापित एमजी कार क्‍लब के हजारों वफादार प्रशंसक हैं, जो इसे कार के एक ब्रांड के लिये विश्‍व के सबसे बड़े क्‍लबों में से एक बनाते हैं। विगत 98 वर्षों में एमजी एक आधुनिक, भविष्‍यगामी और अभिनव ब्राण्‍ड के तौर पर विकसित हुआ है। हलोल, गुजरात में स्थित एमजी मोटर इंडिया की अत्‍याधुनिक विनिर्माण सुविधा 1,25,000 वाहनों के वार्षिक उत्‍पादन की क्षमता रखती है और वहाँ लगभग 2,500 लोग काम करते हैं। सीएएसई (कनेक्‍टेड, ऑटोनॉमस, शेयर्ड और इलेक्ट्रिक) परिवहन के अपने सपने के आधार पर यह तेजतर्रार कारमेकर आज ऑटोमोबाइल सेगमेंट में विभिन्‍न ‘अनुभवों’ को शामिल कर चुका है। इसने भारत में कई ‘पहलों’ की पेशकश की है, जैसे भारत की पहली इंटरनेट एसयूवी- एमजी हेक्‍टर, भारत की पहली प्‍योर इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी- एमजी जेडएस ईवी, भारत की पहली ऑटोनॉमस (लेवल 1) प्रीमियम एसयूवी- एमजी ग्‍लॉस्‍टर और पर्सनल असिस्‍टेंट एवं ऑटोनॉमस (लेवल 2) टेक्‍नोलॉजी के साथ भारत की पहली एसयूवी- एमजी एस्‍टर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here