प्रॉमिसिंग आउटलुक को देखते हुए तेल में तेजी, जबकि बेस मेटल्स में गिरावट जारी

0
190

New Delhi News, 19 June 2021 : कमोडिटी की कीमतों में किसी भी वृद्धि को सीमित करने के चीन के कदम के बाद बेस मेटल्स में गिरावट आई है, जबकि तेल ने अपने लाभ को बढ़ाया है।

सोना
कल के कारोबारी सत्र में स्पॉट गोल्ड 0.4 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1858.7 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में हालिया उछाल के बाद अमेरिकी मौद्रिक नीति के सख्त होने की उम्मीद में सोने की कीमतों में गिरावट जारी रही। निवेशकों ने सोना छोड़ना जारी रखा क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व नीति की चल रही बैठक (15 और16 जून'21 को निर्धारित) ने निवेशकों को हर पल तैयार रहने को प्रेरित किया। यूएस फेड के अधिकारियों ने हाल की मूल्य रैलियों को अस्थायी तत्व के रूप में संदर्भित करना जारी रखा, वहीं बाजारों ने एक तेज आउटलुक पर दांव लगाना जारी रखा। विस्तारवादी रुख पर संभावित कटौती की उम्मीद ने डॉलर को मजबूत किया। इस महीने की शुरुआत में पीली धातु में तेजी बनी रही क्योंकि वैश्विक केंद्रीय बैंक के उदार रुख ने मांग को बनाए रखा। यूएस फेड द्वारा संभावित दर वृद्धि के दांव ने सर्राफा धातु की अपील को प्रभावित किया।

कच्चा तेल
मंगलवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड लगभग 1.8 प्रतिशत बढ़कर 72.1 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ क्योंकि आने वाले महीनों में तेल की मांग में उछाल के पूर्वानुमान से निवेशकों की भावनाओं को समर्थन मिलता रहा। तेजी से टीकाकरण के बाद अमेरिकी तेल भंडार में कमी और प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को फिर से खोलने से
तेल बाजार के लिए अनुकूल आउटलुक बन रहा है। तेल के लिए मुनाफा सीमित हो गया और बाजार सतर्क रहे क्योंकि 16 जून'21 को समाप्त होने वाली
अमेरिकी फेडरल रिजर्व नीति की चल रही बैठक आने वाले महीनों में अमेरिका के मॉनेटरी अप्रौच में बदलाव का सुझाव दे सकती है। इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी (आईईए) ने पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) और सहयोगियों (जिसे ओपेक + भी कहा जाता है) से बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए उत्पादन बढ़ाने की अपील की।

बेस मेटल्स
एलएमई पर औद्योगिक धातुएं सोमवार को मिश्रित रुख के साथ समाप्त हुईं, जिसमें एल्युमीनियम और निकेल ने पैक के बीच सबसे अधिक लाभ दर्ज किया। अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा विस्तारवादी मौद्रिक नीति को कम करने की चिंताओं के साथ-साथ किसी भी कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि को रोकने के लिए चीन के कदम से चिंता का असर पूरे पैक पर पड़ा। बाजार को उम्मीद है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार और मजबूत श्रम बाजार, जिसने औद्योगिक धातुओं जैसी विकास परिसंपत्तियों को बाधित किया है, को देखने के बाद अमेरिकी फेडरल रिजर्व थोड़ा कठोर रुख की ओर बढ़ सकता है। इसके अलावा, चीन का पीपीआई कई साल के उच्च स्तर पर पहुंच गया और इसके बाद चीनी अधिकारियों ने कमोडिटी बाजारों की निगरानी और पर्यवेक्षण में तेजी लाने की घोषणा की। इससे औद्योगिक धातुओं में और गिरावट आई। चीन कीमतों को कम करने के लिए अपने कॉपर, एल्युमीनियम और जिंक के भंडार को बेचने की भी योजना बना रहा है। सबसे बड़ी धातु खपत वाली अर्थव्यवस्था में मांग के संकेतों के लिए इस सप्ताह के अंत में आने वाले मई '21 के लिए चीन के औद्योगिक उत्पादन डेटा से पहले निवेशक सतर्क रह सकते हैं।

तांबा
एलएमई कॉपर 4 फीसदी की गिरावट के साथ 9569.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ जबकि एमसीएक्स पर कॉपर 3.9 फीसदी की गिरावट के साथ 716.8 रुपए प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ। हाल ही में कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी के बाद किसी भी कीमत में वृद्धि को प्रतिबंधित करने का चीन का प्रयास लाल धातु के लिए काफी प्रतिकूल रहाएंजेल ब्रोकिंग।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here