बढ़ रही राम रहीम के गुनाहों की लिस्ट, नियमों को ताक पर रखकर किया था ये काम

0
802

Chandigarh News : साध्वियों से रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे राम रहीम को लेकर आए दिन नए-नए खुलासे हो रहे हैं। ऐसे ही एक खुलासे के तहत डिपार्टमेंट ने नियमों को ताक पर रखकर अंबाला में महज आधे घंटे में राम रहीम का पासपोर्ट जारी किया था। राम रहीम ने 2015 में टोपी पहनकर पासपोर्ट के लिए फोटो खिंचवाई थी। विदेश मंत्रालय इसकी जांच कर रहा है। नियमों के अनुसार आवेदक पासपोर्ट के लिए फोटो खिंचवाते समय टोपी नहीं पहन सकता। वहीं कहा जा रहा है कि राम रहीम पर पासपोर्ट एक्ट के तहत केस दर्ज हो सकता है।

राम रहीम के दोनों पासपोर्ट में है घपला
हरियाणा अौर पंचकूला पुलिस द्वारा चलाए सर्च अभियान में उन्हें राम रहीम के दो पासपोर्ट मिले थे। एक पासपोर्ट जिसमें 2015 में उन्होंने टोपी पहनकर फोटो खिंचवाई थी। वहीं दूसरा 2017 में जारी करवाया था, इस बार राम रहीम ने सिर पर टोपी नहीं पहनी थी। लेकिन इस पासपोर्ट में डेरा प्रमुख ने अपना नाम संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां लिखवाया था। जबकि नियमों के अनुसार किसी के भी नाम के आगे संत, डॉक्टर, प्रोफेसर आदि नहीं लगा सकते। अंबाला से आधे घंटे में जारी हुआ यह पासपोर्ट आमतौर पर चंडीगढ़ ऑफिस से ही जारी होता है क्योंकि इसकी प्रिंटिंग, लेमिनेशन सब कुछ यहीं होता है।

फिल्म की प्रमोशन के लिए किया था पासपोर्ट जारी
राम रहीम ने अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए विदेश जाने की दलील देकर कोर्ट से पासपोर्ट जारी करवाने की परमिशन मांगी थी। सीबीआई काेर्ट ने कुछ समय के लिए पासपोर्ट जारी करने के ऑर्डर दिए थे।

9 की बजाय 8 बजे खुला था पासपोर्ट सर्विस सेंटर
2015 में राम रहीम को पासपोर्ट जारी करने के लिए विदेश मंत्रालय ने अपने सभी इम्प्लॉइज को अंबाला पासपोर्ट सर्विस सेंटर में सुबह 8 बजे ही बुला लिया था। लाखों समर्थक भी वहां इकट्‌ठा हो गए थे। विदेश मंत्रालय यह भी जांच कर रही है कि पासपोर्ट सर्विस सेंटर खुलने का समय सुबह 9 बजे है। ऐसे में वक्त से पहले एप्लिकेशन मंजूर कैसे की गई?

आधे घंटे में जारी हुआ था पासपोर्ट
चंडीगढ़ पासपोर्ट ऑफिस के अफसरों ने महज आधे घंटे में पासपोर्ट जारी किया था। इसके लिए राम रहीम ने हरियाणा के आईपीएस अधिकारी से एडवांस वेरिफिकेशन सर्टिफिकेट भी जारी करवाया था। इसी आधार पर चंडीगढ़ के तब पासपोर्ट ऑफिसर रहे राकेश अग्रवाल ने पासपोर्ट जारी किया था। विदेश मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी एंड चीफ पासपोर्ट ऑफिसर अरुण कुमार चटर्जी का कहना है कि वह इस बारे में कोई जानकारी नहीं दे सकते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here