टॉक शो में लिंग्याज के छात्रों को उद्यमियों ने बताए सफलता के गुर

0
37

फरीदाबाद! लिंग्याज विद्यापीठ (डीम्ड-टु-बी यूनिवर्सिटी) में छात्रों के लिए टॉक शो रखा गया। इसमें लिंग्याज के एलुमिनाई हिमांशु अदलक्खा विंस्टन इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड के को- फाउंडर और विनीत कुमार अरोड़ा लॉजिस्टिक कैडर कमांडर बतौर वक्ता मौजूद थे। इन्होंने अपने हुनर से अपना और लिंग्याज का नाम रोशन किया है। बीइंग डिस्टिंगक्टिव (यानि की आप अपने हुनर को कैसे तराशे और अपने आपको दूसरों से अलग कैसे बनाए) पर छात्र-छात्राओं के समक्ष चर्चा की।

लिंग्याज विद्यापीठ के एलुमिनाई हिमांशु अदलक्खा ने अपनी खुद की कम्पनी खड़ी कर एक मुकाम हासिल किया। उनका विंस्टन इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और आईटी इंजीनियरिंग छात्र होने से लेकर एक ब्रांड के संस्थापक होने तक का सफर छात्रों के साथ सांझा किया।

Nykaa, Recode Studios, BIK, HYPD और अब शार्क टैंक इंडिया जैसे विभिन्न ब्रांडों के लिए काम किया। हाल ही में शार्क टैंक इंडिया सीजन 2 विस्टन इंडिया बिजनेस पीच में अपनी कम्पनी विंस्टन इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड को प्रदर्शित किया। जिसे हिमांशु अदलक्खा और उनकी पत्नी दोनों ने मिलकर शुरूआत की। ब्यूटी के एक नए रूप और प्रोडक्ट के विचार को रखते हुए शार्क टैंक इंडिया में शार्क्स और जनता को इस बिज़नेस के लिए बिज़नेस स्टडी करने के लिए प्रेरणा दी। हिमांशु अदलक्खा ने कहा कि मैंने अपने बिजनेस की शुरूआत 2021 में करी। हम ऐसे टेक्नोलॉजी प्रोडक्ट बेचते हैं, जो पर्सनल केयर के लिए इस्तेमाल कर सके।

विंस्टन इंडिया ने पैनलेस हेयर रेमोवेर और चेहरे की देखभाल के लिए सावधानीपूर्वक प्रोडक्ट रेंज बनाई है। उन्होंने बताया कि यह एक ऐसा ब्रांड हैं, जो निजी देखभाल और प्यार के साथ सौंदर्य के सफर को सलून जितना निखारने और उसे टेक्नोलॉजी की सहायता से बदलने के लिए अग्रसर हैं। वहीं इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग 2008 बैच के पासआउट कमांडर विनीत कुमार अरोड़ा ने विभिन्न भूमिकाओं में लॉजिस्टिक कैडर (रसद संवर्ग) में अपने कर्तव्यों का पालन किया है और प्रतिष्ठित भारतीय नौसेना अकादमी, एझिमाला के पूर्व छात्र हैं। इतना ही नहीं 2009 में भारतीय नौसेना की रसद शाखा में नियुक्त हुए थे। सशस्त्र बलों के जटिल, बहुआयामी और चुनौतीपूर्ण वातावरण में दशकों का अनुभव रखते हैं। वहीं नौसेना इन्वेंटरी के लगभग पांच सौ आइटमों के विनिर्देशों को प्राप्त करने के लिए उन्हें 2016 में प्रतिष्ठित कंट्रोलर ऑफ लॉजिस्टिक्स रोलिंग ट्रॉफी से सम्मानित किया गया था। अधिकारी को उसी वर्ष ‘रसद में नवाचार’ के लिए प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह कार्यक्रम विद्यापीठ के चेयरमैन डॉ. पिचेश्वर गड्डे के संरक्षण में आयोजित किया गया था। इस दौरान प्रो चांसलर प्रो (डॉ). एमके सोनी, वाइस चांलर डॉ. महेंद्र पाल गुप्ता, रजिस्ट्रार प्रेम सालवान व डीन अकादमिक प्रो. (डॉ.) देवेंद्र पाल सिंह आदि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here