एचपीएससी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने शिक्षाविदों को बताए बच्चों को अध्यात्म से जोडऩे के गुर

0
34

फरीदाबाद : एचपीएससी यानि हरियाणा स्कूल प्रोग्रेसिव कांफे्रंस द्वारा सैक्टर-17 मार्डन स्कूल के महावीर ऑडिटोरियम में विशेष अध्यात्मिक कार्यक्रम स्प्रिचुएलिटी इज द सेविर ऑफ ह्यमैनिटी का आयोजन किया गया। इस मौके पर लगभग 100 से अधिक स्कूलों के शिक्षाविदों ने हिस्सा लिया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में मोटिवेशनल स्पीकर ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने शिक्षाविदों व उपस्थितजनों को अध्यात्म के महत्व व जीवन जीने की कला सिखाई। इस मौके पर मंच संचालन अंतराष्ट्रीय कवि दिनेश रघवुंशी ने किया। कार्यक्रम में डा. अमृता ज्योति द्वारा भी प्रवचन दिए गए। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के रूप में आईआरएस डिप्टी कमिश्रर प्रमोद श्यारण उपस्थित रहे। कार्यक्रम में एसएस गोंंसाईं, प्रदेशाध्यक्ष एचपीएससी, सुरेशचंद्र, वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष, दीपिन राव, प्रदेश महासचिव, डा. सुमित वर्मा, कोषाध्यक्ष, सुशील जैन, विजय लक्ष्मी, दीपिका शर्मा, एसएस चौधरी, हेमा अरोड़ा, दीप्ती जगोटा, नीलिमा जैन आदि की अहम भूमिका रही। इस मौक पर बीके शिवानी दीदी ने कहा कि वर्तमान में बच्चों में नैतिक मूल्यों की कमी देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि आधुनिकता में नैतिक मूल्य गौण हो गए हैं इसलिए बच्चों को संस्कार देने जरूरी हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को ना कहना सीखना होगा ताकि वे भविष्य में अपनी मनमर्जी अनुसार कार्य न होने पर तनावग्रस्त न हो। उन्होंने कहा कि जीवन में चयन नहीं बल्कि स्वीकार करना सीखना होगा। बीके शिवानी ने कहा कि आजकल हर वर्ग में विशेष रूप से बच्चों व युवाओं में मानसिक परेशानी बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि भारत विश्व गुरु बनने की ओर अग्रसर है परंतु सेवा, योग, अध्यात्म, साधना, त्याग के देश में तनाव लगातार बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि तनाव या गुस्से, खुशी किसी भी व्यवहार के लिए कोई और दूसरा नहीं बल्कि हम स्वयं जिम्मेवार हैं क्योंकि यह विचार हमारे द्वारा ही विकसित किए गए हैं इसलिए दूसरे पर दोषारोपरण करना सिर्फ मिथ्या है। बीके शिवानी दीदी ने कहा कि आज सोशल मीडिया पर बच्चों की बढ़ती सक्रियता चिंता का विषय है, वह बच्चों से उनका बचपन छीन रही है। उन्होंने कहा कि स्कूलों को यह जिम्मेवारी लेनी होगी कि पहले वे स्वयं अध्यात्म व सदविचारों का आत्मसात करेंगे और उसके बाद बच्चों के अंदर इसका समावेश करेगे। इस मौके पर शिक्षाविदों ने अध्यात्म को लेकर अपनी जिज्ञासाओं को शिवानी दीदी से सांझा किया और शिवानी दीदी ने उनका जबाब दिया। इस मौके पर लगभग 100 शिक्षाविदों व उद्योग, पीपी स्टील सहित अन्य वर्गों के गणमान्य जनों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर प्रदेशाध्यक्ष एसएस गोंसाईं व वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेश चंद्र व कोषाध्यक्ष सुमित वर्मा ने कहा कि बीके शिवानी दीदी द्वारा शिक्षाविदों को जो अध्यात्म का ज्ञान दिया गया है, वह अविस्मरणीय है। उन्होंने कहा कि आगे भी इस तरह के आयोजन जारी रहेंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here