बनारसी साड़ी व ड्रेस मैटीरियल के लिए एनसीआर में डिजायनर्स की लिए सूरजकुण्ड मेला बना हॉट स्पाट

0
1523

Faridabad/ Surajkund News : राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के समीप हरियाणा के सूरजकुण्ड में चल रहे 32वें अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला में ड्रेसिंग मैटीरियल की बेहतरीन कलेक्शन का अनूठा बाजार सजा है। बॉलीवुड की फिल्मों या टीवी सीरियल में कलाकारों की महंगी डिजायनर साड़ी- सूट की शानदार वैरायटी सूरजकुण्ड में देश के अलग-अलग राज्यों से आए शिल्पकारों की स्टाल पर कम कीमत पर आसानी से उपलब्ध है। इतना ही नही फैशन डिजायनर्स के लिए तो ड्रेसिंग मैटीरीयल कलेक्ट करने के लिए सूरजकुण्ड मेला इन दिनों हॉट स्पॉट बना हुआ है।

हाल में विराट कोहली और अनुष्का शर्मा के दिल्ली में हुए रिसेप्शन में अनुष्का की बनारसी साड़ी भी मेला ख़ूब चर्चित है। बनारस की पीली कोठी के कारीगरों द्वारा तैयार की गई साड़ी को लेकर मेला में बनारसी शिल्पकारों की स्टालों पर महिलाओं की ख़ूब भीड़ देखी जा रही है। बनारसी कारीगरों की जामदानी, जामावार तंचुई, ब्रोकेड साड़ी, कतान मूंगा, कड़ुआ बूटा आदि की रिटेल व होलसेल में ख़ूब बिक्री हो रही है। महिलाओं के साथ यहाँ उपलब्ध बनारसी ड्रेस मैटीरियल का इस्तेमाल शेरवानी, पार्टी वीयर शर्ट, कुर्ता आदि तैयार करने में भी होता है। ऐसे में ड्रेस डिजायनर के लिए मेला कलेक्शन प्वाइंट साबित हो रहा है। विवाह, पर्व व अन्य अवसरों पर भारतीय पारंपरिक परिधानों की शानदार कलेक्शन के लिए एनसीआर में इन दिनों सूरजकुण्ड सबसे बड़ी मार्केट बनी हुई है।

बनारस से आए नेशनल अवार्डी शिल्पकार एचएएच अंसारी व मक़बूल आलम अंसारी ने बताया कि बनारसी साड़ी की जामदानी वैरायटी तैयार करने में दो कारीगरों को कम से कम 45 दिन लगते है और साड़ी का बेस तैयार होने के बाद फिनिशिंग पर भी 15 दिन का टाइम लगता है। कडुआ बूटा और कतान मूंगा साड़ी या ड्रेस मैटीरियल तैयार करने की भी कमोबेश ऐसी ही प्रक्रिया है। वही मेला परिसर में बनारसी ड्रेस मैटीरियल की बड़ी कलेक्शन लेकर आए मोहम्मद सल्लाउद्दीन ने बताया कि दुपट्टा, सूट व साड़ी में सिल्क, शिफोन व कॉटन की अधिक मांग है।बनारसी वैरायटी की बात करें तो सामान्यतः हर स्टाल पर तीन हजार से तीस हजार रुपए तक की ड्रेस उपलब्ध है लेकिन ड्रेस की क़ीमत उस पर होनी वाली कारीगरी तथा मैटीरियल के ऊपर निर्भर करती है।

सूरजकुण्ड मेला में ड्रेसिंग मैटीरियल की कलेक्शन के बारे में सुनकर गुरूग्राम की डा अर्चना रानी ने बताया कि इंडियन ट्रेडिशनल ड्रेसेज व होम डेकोर के लिए यहाँ हैंडलूम की अच्छी वैरायटी मिल जाती है। इस बार उनका फोकस बनारसी ड्रेस के कलेक्शन पर है जोकि दिल्ली के बाजारों की तुलना में यहां कम क़ीमत पर उपलब्ध है। वहीं चादंनी चैक में महिलाओं की पार्टी वीयर ड्रेसेज के थोक विक्रेता जितेंद्र तनेजा पिन्नू पिछले तीन साल से यहाँ लगातार ट्रेडिशनल ड्रेसेज की नई वैरायटी की तलाश में आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस बार मेले में थीम राज्य उत्तर प्रदेश है तो बुनकरों की अच्छी कारीगरी यहाँ देखने को मिली है। उल्लेखनीय है कि सूरजकुण्ड मेला में बनारसी ड्रेसेज की अच्छी वैरायटी उपलब्ध है अगर आप यहाँ ख़रीदारी करते है तो बारगेनिंग की कला से आप अपनी पसंद किफायती दामों पर पा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here