नगर निगम प्रशासन एक माह के अंदर समस्त क्षतिग्रस्त सडक़ों का निर्माण करवाएं: अनशनकारी बाबा रामकेवल

0
108

फरीदाबाद, 15 सितम्बर। बहु चर्चित हार्डवेयर-प्याली सडक़ निर्माण पर एक बार फिर से रोक लगने से नाराज अनशनकारी बाबा रामकेवल ने प्रशासन से एक माह के अंदर सडक़ निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर कर उसे बनाने की मांग की है। अगर एक माह के अंदर-अंदर फरीदाबाद शहर की समस्त क्षतिग्रस्त सडक़ों का निर्माण पुन: शुरू नहीं किया गया तो वह शहर की सामाजिक संस्थाओं व एनजीओ के साथ निगम मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन करेगें।

उल्लेखनीय है कि हार्डवेयर-प्याली सडक़ निर्माण की मांग को लेकर अनशनकारी बाबा रामकेवल ने मार्च माह में करीबन 40 दिनों तक धरना दिया था। जिसके बाद परिवहन मंत्री पं.मूलचंद शर्मा ने प्रदेश सरकार से इस सडक़ को बनवाने के लिए साढ़े छह करोड़ रूपए पास करवा दिए और धरने पर बैठे बाबा का धरना समाप्त करवा दिया। जिसके कुछ दिन बाद नगर निगम के अधिकारियों ने इस सडक़ का निर्माण कार्य का शुभारंभ केन्द्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर तथा प्रदेश के परिवहन मंत्री पं.मूलचंद शर्मा से करवा दिया तथा दोनों ही नेताओं ने आगामी तीन से चार माह में सडक़ निर्माण का आम जन को आश्वासन भी दिया। कुछ दिनों तक तो सडक़ निर्माण कार्य चलता रहा, लेकिन बाधाओं की वजह से निर्माण कार्य में लगातार देरी हो रही है। साथ ही इस क्षतिग्रस्त सडक़ से रोजाना लोगों की गाडिय़ों में नुकसान हो रहा है कई दुपहिया वाहन चालक चोटिल भी हो रहे है, लेकिन नगर निगम के अधिकारी इस सडक़ निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर करने की बजाय अपने कार्यालयों में आराम फरमा रहे है। सडक़ निर्माण कार्य रूकने से आम जन में सरकार के प्रति रोष पनप रहा है।

आज अनशनकारी बाबा रामकेवल ने अपने साथियों के साथ सडक़ के निर्माण कार्य का जायजा लेते हुए नाराज प्रकट की। उन्होंने कहा कि प्रशासन एक माह के अंदर निर्माण कार्य में आ रही बाधाओं को समाप्त कर सडक़ निर्माण सम्पन्न करवाए। बाबा रामकेवल ने परिवहन मंत्री का आभार जताते हुए कहा कि उन्होंने तो अपने हिस्से का काम कर दिया है, लेकिन निगम के अधिकारी अपने हिस्से का कार्य करने में लापरवाही बरत रहे है। मंत्री श्री शर्मा अधिकारियों को तत्काल आदेश दे कि वह सडक़ निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूरा करवाऐं, ताकि इस सडक़ को बनने से लाखों लोगों का फायदा हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here