शिक्षा मंत्री की मां गिंदोड़ी देवी के अंतिम संस्कार में उमड़ा जनसैलाब

0
912

Chandigarh News, 13 Sep 2018 : हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा की दिवंगत माता गिंदोड़ी देवी का आज महेंद्रगढ़ के गांव राठीवास में अंतिम संस्कार कर दिया गया। हरियाणा मंत्रीमंडल के आधा दर्जन से अधिक मंत्रियों के अलावा सांसद, विधायक, निगमों व बोडऱ्ो के चेयरमैन के अतिरिक्त गिंदोडी देवी के अंतिम सस्कार मे जनसैलाब उमड़ पड़ा। शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने अपनी माता को मुखाग्रिी दी।

उल्लेखनीय है कि गिंदोड़ी देवी का बुधवार की सांय निधन हो गया था। वे 97 वर्ष की थी। दिवंगत गिंदोड़ी देवी पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ थी। उन्होंने बुधवार सांय सवा सात बजे अंतिम सांस ली। उस समय शिक्षा मंत्री सहित परिवार के सभी सदस्य मौजूद थे। उनके अंतिम संस्कार में हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टेन अभिमन्यु, कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, जनस्वास्थ मंत्री बनवारी लाल, परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्णदेव कंबोज, श्रम एवं रोजगार मंत्री नायब सिंह सैनी, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, पार्टी के प्रदेश संगठन मंत्री सुरेश भट्ट, सांसद रतन लाल कटारिया, विधायक मंलचंद शर्मा, विधायक ओमप्रकाश यादव, विधायक अभय सिंह यादव, पवन सैनी विधायक, नरेश कौशिक विधायक, विधायक घनश्याम सर्राफ, विधायक प्रेम लता, विधायक संतोष सारवान, नरेश तंवर, हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज के चेयरमैन गोविंद भारद्वाज, कला एवं संस्कृति बोर्ड में सलाहकार महेश जोशी, पूर्व मंत्री कैलाशचंद शर्मा, संगठन महामंत्री संदीप जोशी, समय सिंह भाटी, प्रदेश प्रवक्ता वीर कुमार यादव, इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार मदन लाल गोयल, हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के सदस्यों में देवेन्द्र यादव, सुरेन्द्र उजीना, राजबाला, जिला भाजपाध्यक्ष शिवकुमार महता, नरेन्द्र झिमरिया, सीनियर एडवाकेट राकेश महता, बार प्रधान राजकुमार यादव, पूर्व बार प्रधान बंसी लाल यादव,रीतिक वधवा, परमेश्वर शर्मा, सुंदर अत्री, संदीप अत्री सहित अनेकों गणमान्यजनों के अलावा जिला उपायुक्त डा. गरिमा मित्तल, पुलिस कप्तान विनोद कुमार, एसडीएम  विनेश कुमार सहित अनेकों अधिकारी उपस्थित थे।

गिंदोड़ी देवी के अंतिम संस्कार से पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने बताया कि गत दिवस बुधवार को सांय सात बजे प्राण त्यागने से पूर्व मेरी मां ने भगवत गीता को नौवां अध्याय सुना तथा इसके पश्चात उन्होंने दो बार राम-राम बोला और उसके बाद राम को प्यारी हो गई। प्रो. शर्मा ने बताया कि मेरी मां बहुत ही मिलनसार एवं धार्मिक विचारों की धनी थी तथा पूरे परिवार को एकसूत्र में बांधने में उनकी विशेष भूमिका रही है। उन्हीं की प्रेरणा से आज मैं इस मुकाम पर पहुंचा हूं।

आज महेंद्रगढ़ बार एसोसिएशन ने रामबिलास शर्मा की माता के निधन पर वर्क सस्पैंड रखा। इसके अलावा शहर की अधिकांश शिक्षण संस्थाओं में मौन धारण करा कर बच्चों की छुट्टी कर दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here