आजादी की लड़ाई के श्रेय को कांग्रेस ने अपने तक ही सीमित रखा: ओमप्रकाश धनखड़

0
134

फरीदाबाद 17 जनवरी । कांग्रेस ने सुभाष चंद्र बोस और उन जैसे हजारों बलिदानियों के साथ धोखा किया है, जिन्होंने आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। कांग्रेस ने लाखों बलिदानियों के नाम सामने नहीं आने दिए, जिसके चलते भाजपा ने आजादी के 75वें वर्ष में भुला दिए बलिदानियों के नाम भी उजागर कर देश और प्रदेश के बच्चे-बच्चे तक पंहुचाने का संकल्प लिया । भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने किसान मोर्चा प्रदेश महामंत्री सोहनपाल सिंह के सीकरी स्थित फार्म पर आयोजित बैठक से मिलन वाटिका फरीदाबाद में वर्चुअल तरीके से वार्ड व ग्राम प्रमुखों को संबोधित करते हुए यह कहा । बैठक में हरियाणा के कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, प्रदेश महामंत्री मोहन लाल बडौली, फरीदाबाद के प्रभारी विधायक सत्य प्रकाश जरावता, जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा, युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राहुल राणा, विधायक सीमा त्रिखा, राजेश नागर, युवा आयोग के चेयरमेन मुकेश गौड़, प्रदेश किसान मोर्चा के महामंत्री सोहन पाल सिंह, मेहर चंद गहलोत, मेयर सुमन बाला व जिला महामंत्री मूलचंद मित्तल, आर एन सिंह मुख्य तौर पर उपस्थित रहे । 23 जनवरी को नेता जी सुभाष चंद बोस की 125 वी जयंती पर प्रदेश भर में 7500 स्थानों पर 6 लाख लोग आजाद हिंद फौज का तराना गाकर नेताजी व उनकी आजाद हिंद फौज से जुड़े स्वतंत्रता सेनानियों को याद करेंगे। प्रदेश के 6 लाख लोग 23 जनवरी को नेताजी को जयहिन्द बोलेंगें । भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने इन कार्यक्रमों के लिए 16000 कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई है। इसके लिए प्रदेश के हर वार्ड और गांव में नेता जी का चित्र और उनके द्वारा दिए गए नारे एवं गीत पहुंचा दिए हैं तथा इस संबंध में हर कार्यक्रम स्थल पर दो-दो भाजपा कार्यकर्ताओं की ड्यूटी निर्धारित कर दी गई है। हर कार्यक्रम में 75 – 75 लोग रहेंगे।

प्रदेश अध्यक्ष धनखड़ ने कहा कि हमारे प्रदेश पदाधिकारियों की काला पानी यात्रा के दौरान में शहीदों के साथ हुए भयंकर अत्याचार और उनके नृशंस हत्याकांड की वो कहानी सामने आई, जो देशवासियों से आज तक छुपी हुई है । 1943 में कालापानी की इस पवित्र भूमि पर नेताजी ने झंडा फहराया था । अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने वहां पर नेताजी को नमन किया और जयहिन्द बोस बोला । कालापानी की सेलुलर जेल की पवित्र मिट्टी लाकर सभी जिलों में भेजी, जिसे कार्यकर्ताओं ने अपने मस्तक से लगाया । धनखड़ ने कहा कि कांग्रेस ने सभी स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान किया होता तो आज हमारे युवाओं के सामने प्रेरणा के लिए आजादी काल की लाखों शौर्य गाथाएं होती। काला पानी में नेताजी, वीर सावरकर और बलिदानियों के साथ किए गए उपेक्षा एवं कूर्रता भरे व्यवहार के बारे में जानकारी देते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 1874 में 7567, वर्ष 1881 में 11440, वर्ष 1891 में 11718, वर्ष 1901 में 11974, वर्ष 1905 में 14112 और वर्ष 1906 में 14696 भारतीयों को अंग्रेज़ों द्वारा पकड़ कर काला पानी में गया था। मगर वर्ष 1858 से लेकर वर्ष 1910 तक बंदी बनाकर काला पानी भेजे जाने वाले इन सेनानियों के नामों का रिकार्ड भी नहीं है। काला पानी के वाइपर द्वीप पर 1858 में झांसी के 200 सैनिकों को चेन से बांधकर मारा गया। आजादी की लड़ाई में 13500 लोगों को कानूनी तरीके और तीन लाख से ज्यादा स्वतंत्रता सेनानियों को बिना रिकोर्ड दर्ज लिए मारा गया। पहुंचाएंगे। धोखे की मानसिकता वाली कांग्रेस ने जिस स्थान पर नेता जी ने झंडा फहराया था, उस पर प्रतिबंध लगाते हुए इसे ‘डी सेरोमोनियल’ घोषित कर दिया था। भेरों सिंह शेखावत ने वहां पर झंडा फहराया ।

बैठक में बिजेन्द्र नेहरा, संजीव भाटी, सुखबीर मलेरना, पंकज सिंगला, जिला पदाधिकारी, मंडल अध्यक्ष, वार्ड प्रमुख व ग्राम प्रमुख, मीडिया व सोशल मीडिया टीम के पदाधिकारी व भाजपा युवा कार्यकर्त्ता योगेश तेवेतिया, गोल्डी अरोड़ा, कार्तिक वशिष्ठ, मनीष यादव, ज्ञान्नेंद्र भारद्वाज और भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित रहे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here