महिला पुलिस ने कराया था मासूमों का अपहरण, CCTV में कैद वारदात

0
363

Indore News : पुलिस की करतूत देखकर किसी का भी खाकी से विश्वास उठ जायेगा। क्योंकि पुलिस ने एक महिला के घर से उसकी दो मासूम बेटियों का अपहरण करवा लिया, फरियादी के घर का महिला पुलिस की मदद से दरवाजा बाहर से बंद कर अपहरण किया गया, पूरी वारदात फ्लैट के बाहर लगे CCTV में कैद हो गयी।

महिला पुलिस ने की मदद
सीसीटीवी फुटेज सामने आया है कि फरियादी महिला श्वेता शाह का पति कर्नव शाह अपने ड्राइवर के साथ उसके फ्लैट पर पहुंचा, जहां थोड़ी देर रुकने के बाद ड्राइवर फ्लैट से बाहर निकला, उसके थोड़ी देर बाद कर्नव शाह भी फ्लैट से बाहर निकला, वह वापस आया और फ्लैट में घुसा, जहां से वह गेट के बाहर निकला और कथित महिला पुलिसकर्मी को इशारा किया।

फ्लैट से बच्चियों को लेकर भागा
जैसे ही कथित महिला पुलिसकर्मी फ्लैट के गेट तक पहुंची, कर्नव अपनी गोद में उठाकर दोनों बच्चियों को बाहर लाया और निकल गया, इसके बाद महिला पुलिसकर्मी ने फ्लैट का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया। थोड़ी देर बाद जब दूध वाला आया, तब परिवार को पता चला कि उनकी बच्चियों का अपहरण कर लिया गया है।

बेटियां होने पर पत्नी को निकाला था घर से
एमजी रोड थाना क्षेत्र के स्नेहलतागंज की घटना है, जहां रहने वाली श्वेता शह ने 2012 में सूरत निवासी कर्नव से लव मैरिज की थी। उनकी 2 साल और 4 साल की दो बेटियां भी हैं। लेकिन श्वेता का आरोप है कि बेटियां होने की वजह से पति और ससुराल वालों ने 2016 में उसे घर से निकाल दिया, जिसके बाद से वह अपने माता-पिता के साथ रह रही है।

पुलिस ने भेजा था पति को
इसके साथ ही पति की करतूतों की शिकायत को लेकर श्वेता ने महिला थाने में में एक आवेदन भी दिया है। लेकिन उस पर महिला थाना पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। 25 जुलाई को महिला थाना की एएसआई राजकुमारी चौकसे का फोन श्वेता के पिता के पास आया और उनसे कहा कि श्वेता का पति कर्नव उससे और बच्चियों से मिलना चाहता है। वह उनके फ्लैट जाकर बिना किसी हंगामे के उनसे मुलाकात करना चाहता है।

विवाह विच्छेद के बाद ही लौटाएगा बच्चियों को
एएसआई राजकुमारी के कहने पर श्वेता ने कर्नव को अपने फ्लैट पर जाने दिया। लेकिन वह वहां अपने ड्राइवर और महिला पुलिसकर्मियों के साथ पहुंचा और बच्चियों को उठा ले गया। पता चलने के बाद श्वेता अपनी बच्चियों को बचाने के लिए दौड़ी भी, लेकिन तब तक बच्चियों का अपहरण कर कर्नव भाग गया। श्वेता का आरोप है कि कर्नव ने उसकी शर्तों पर उसे तलाक देने के बाद ही बच्चियां लौटने की बात कही है।

पुलिस ने नहीं की मदद
अपहरण की शिकायत करने श्वेता फौरन एमजी रोड थाने पहुंची, लेकिन महिला थाने का मामला बताकर एमजी रोड पुलिस ने न तो उसकी फरियाद सुनी और न ही उसकी बच्चियों को बचाने के लिए किसी तरह की नाकेबंदी की। वहां से वह महिला थाने भी गयी, लेकिन वहां किसी ने उसकी फरियाद नहीं सुनी, बल्कि उसे धमकाकर थाने से भगा दिया।

अधिकारियों के चक्कर काटने को मजबूर
ढाई महीनों से अपनी बेटियों को वापस पाने के लिए पुलिस के चक्कर कट रही श्वेता 2 बार जनसुनवाई में भी गयी, लेकिन वहां भी उसकी सुनवाई नहीं हुई। अब श्वेता ने डीआईजी से अपनी बेटियां वापस दिलवाने और बच्चियों का अपहरण करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग की है। डीआईजी ने मामले की जांच के लिए एसपी ईस्ट के सुपुर्द किया है।

पुलिस की छवि धूमिल
पुलिस लगातार अपनी इमेज सुधारने के लिए कई प्रयास कर रही है। लेकिन पुलिस की इस तरह की हरकतें पूरे विभाग की छवि खराब कर देती है। इस मामले में जिस तरह का काम महिला थाना पुलिस ने किया है, उसकी भी जांच करवाने की बात डीआईजी ने कही है। अब देखना यह है कि साजिश रचकर बच्चियों का अपहरण करवाने वाली महिला थाना पुलिस पर किस तरह की कार्रवाई की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here