एक-तिहाई से ज्यादा इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स को भर्तियों की चिंता : ब्रिजलैब्ज सर्वेक्षण

0
453

New Delhi, 19 June 2020 : अपने आला कार्यक्रमों और बूट कैम्प के माध्यम से भारत के तकनीकी पूल की रोजगार क्षमता को विस्तार देने के लिए प्रतिबद्ध ब्रिजलैब्ज सॉल्युशंस एलएलपी ने अब अपने प्लेटफॉर्म पर जॉब प्लेसमेंट पर इंजीनियरिंग स्नातकों के बीच सर्वेक्षण किया है। भारत की सबसे बड़ी आईपी-संचालित इनक्यूबेशन लैब द्वारा किए गए नवीनतम ऑनलाइन सर्वेक्षण में विभिन्न इंजीनियरिंग स्ट्रीम से जुड़े लगभग 1000 उम्मीदवारों (60% लड़कों और 40% लड़कियों सहित) की सैम्पल साइज शामिल था। इस सर्वेक्षण ने आज नौकरी की तलाश करने वालों की कुछ प्रमुख चिंताओं को सामने रखा है।

सर्वेक्षण के निष्कर्षों ने महामारी के बाद की हमारी दुनिया में इंजीनियरों को ‘जॉब रेडी’ करके स्किल-सेल के गैप्स को दूर करने की आवश्यकता को साबित किया है। 76% उत्तरदाताओं ने स्वीकार किया कि उनके कॉलेजों में एक्टिव प्लेसमेंट सेल है जबकि बाकी ने इसके उलट दावा किया है। यह उल्लेखनीय है कि यद्यपि अधिकांश छात्रों ने सक्रिय प्लेसमेंट सेल होना स्वीकार किया है, लेकिन पांचवें हिस्से से थोड़े ज्यादा यानी 24% उत्तरदाता ही उनके जरिये नौकरी हासिल कर सके हैं। छात्रों के एक बड़े हिस्से को अब तक किसी भी तरह की नौकरी की पेशकश नहीं हुई है। इसका तात्पर्य यह है कि वर्तमान में 78.64% छात्रों के पास कोई नौकरी नहीं है।

सर्वेक्षण के अनुसार 35.48% इंजीनियरिंग में नौकरी चाहने वाले समय पर प्लेसमेंट को लेकर चिंतित हैं। महामारी की वजह से चल रही आर्थिक मंदी की पृष्ठभूमि में कई संगठनों ने या तो अपनी भर्ती प्रक्रियाओं को रोक दिया है या बड़े पैमाने पर छंटनी कर रहे हैं। इस अस्थायी अयोग्यता ने नए इंजीनियरिंग स्नातकों के संकट को बढ़ा दिया है जो इस संकट के समय में भी अवसर की तलाश में हैं।

उनकी आशंकाएं कई मुद्दों के इर्द-गिर्द घूम रही हैं। इनमें मनचाहे वेतन पैकेज से लेकर नौकरी के प्रस्ताव तक सबकुछ शामिल हैं। यह ध्यान देने योग्य बात है कि केवल 26.96% उत्तरदाताओं को अपने मौजूदा स्किल सेट के दम पर मनचाहा वेतन पैकेज मिलने का विश्वास है। आंकड़े बताते हैं कि नौकरी चाहने वालों के बीच आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए अनुभवात्मक लर्निंग से सपोर्टेड एक मजबूत स्किलसेट के महत्व को सामने लाते हैं।

ब्रिजलैब्ज के सीईओ नारायण महादेवन ने सर्वेक्षण के निष्कर्षों पर कहा, “सर्वेक्षण ने कई विचार बिंदुओं को सामने लाया है। सबसे पहले सभी इंजीनियरिंग उम्मीदवारों को अपने कॉलेजों में कैंपस प्लेसमेंट का प्रावधान नहीं है। दूसरे, ऐसे प्रावधानों तक पहुंच भी नौकरी की गारंटी नहीं दे सकती है। विशेष रूप से मौजूदा आर्थिक मंदी के कारण भर्ती प्रक्रियाओं को रोकने की वजह से ऐसा हो सकता है। और, अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण, नौकरी तलाशने वालों को इस बात पर जरा-भी विश्वास नहीं है कि उन्हें जल्द ही मनचाहे पैकेज के साथ नौकरी मिल जाएगी।”

महादेवन ने कहा, “मौजूदा स्थिति को देखते हुए, एक मजबूत स्किलसेट की जरूरत है जो न केवल यह सुनिश्चित करे कि नौकरी तलाशने वाले को प्रतिस्पर्धी रोजगार बाजार में बढ़त हासिल हो, बल्कि उसे मनचाहा वेतन पैकेज भी प्राप्त हो, जो उसके प्रयासों के अनुरूप हो।”

ब्रिजलैब्ज सॉल्युशंस एलएलपी का लक्ष्य उभरती टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इंजीनियरिंग प्रतिभा और विचारों का पोषण करना है और 2016 में अपनी स्थापना के बाद से फैलोशिप प्रोग्राम के माध्यम से पूरे भारत में 1500 से अधिक इंजीनियरों को प्रशिक्षित और नियोजित किया है। कंपनी अपने प्रयासों को विस्तार देने के लिए भारत के इंजीनियरिंग प्रतिभा पूल को अपडेट करने और उन्हें उद्योग के लिए तैयार करने की दिशा में बूट कैंप का भी आयोजन करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here