कोविड-19 ने भारतीय अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित किया

0
71

New Delhi News, 29 Dec 2020 : कोरोनावायरस के तेजी से प्रसार को देखते हुए, पूरी दुनिया इसके प्रभावों का सामना कर रही है। कोविड-19 को महामारी घोषित हुए 10 महीने हो चुके हैं। हमें अब भी दुनियाभर में टीका लगाने का इंतजार है और यह देखना शेष है कि वे यथास्थिति को बदलने में कितने प्रभावी हैं।

दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के साथ-साथ भारतीय अर्थव्यवस्था भी गंभीर रूप से प्रभावित हुई है। लोगों और व्यवसायों पर महामारी का गहरा असर हुआ है। कुछ कारोबारों के लिए तो विनाशकारी परिणाम हुए हैं, उम्मीद है कि देश में आने वाले महीनों में सबकुछ पूरी तरह से ठीक हो जाएगा। हालांकि, यह समझना आवश्यक है कि पिछले कुछ महीनों में क्या हुआ, ताकि हम चुनौतियों का सही समाधान खोज सकें।

आइए देखते हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था किस तरह प्रभावित हुआ हैः
वायरस फैलने के बाद से राज्य सरकारों ने लॉकडाउन लगाए और इससे फ्री-मूवमेंट पर पाबंदी लग गई। इसका सबसे बड़ा असर सेवा क्षेत्र पर पड़ा है। इसने बेरोजगारी बढ़ाई है क्योंकि लोग सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से अपने कार्यक्षेत्र तक यात्रा नहीं कर पा रहे थे। इसके अलावा, भारत में रोजगार का एक बड़ा हिस्सा असंगठित क्षेत्र में काम करता है, लॉकडाउन की वजह से काम की कमी ने प्रवासी मजदूरों को अपने गांव-शहर यानी गृहनगर लौटने को मजबूर किया। पर्यटन, रिटेल और आतिथ्य क्षेत्रों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। अच्छी बात यह रही कि अनलॉक ने स्थिति में सुधार किया और मांग को काफी हद तक वापस लाया। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) के अनुसार, दिवाली के सीजन में मांग में 10.8% की बढ़ोतरी देखी गई और बाजार में तेजी का रुख बना हुआ है।

अन्य मुद्दे उन संरचनात्मक परिवर्तनों की बात करते हैं जिन्हें कंपनियों को अपने संचालन में करना पड़ा। इस प्रकोप के कारण ‘घर से काम’ और ‘कहीं से भी काम करने’ के तरीके विकसित हुए जिससे सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंड में बदलाव हुआ। यह कोविड-19 से पहले अकल्पनीय था, क्योंकि लोगों को काम करने के लिए शारीरिक रूप से रिपोर्ट करना पड़ता था। यह संगठनों और कर्मचारियों, दोनों के लिए पॉजिटिव रहा क्योंकि इसने कंपनियों को अपने फिक्स ओवरहेड्स को कम करने की अनुमति दी है, जबकि इससे कर्मचारियों को समय बचाने में मदद मिली। कर्मचारी भी लागत बचाने में सक्षम हुए क्योंकि वे अब अपने गृहनगर में रह रहे हैं। दूसरी ओर, कंपनियां रियल एस्टेट और अन्य ओवरहेड्स पर खर्च कम कर रही हैं। वे अब सक्रिय रूप से टियर-3 और टियर-4 शहरों से काम पर रख रहे हैं, क्योंकि कर्मचारियों को रीलोकेट करने की आवश्यकता नहीं है।

हेल्थ सेक्टर में भी स्थिति इसी तरह की बनी है। हेल्थ और फार्मा क्षेत्रों में स्टॉक की कीमतों में वृद्धि देखी गई क्योंकि कंपनियां बड़ी मात्रा में बिक्री हासिल करने में सक्षम थीं। फार्मा और हेल्थ टेक कंपनियां डिजिटल स्पेस का अधिकाधिक इस्तेमाल कर रही हैं क्योंकि ग्राहक मौजूदा स्वास्थ्य संकट के दौरान अपनी दवाओं और स्वास्थ्य योजनाओं के लिए डॉक्टरों से परामर्श करने के लिए मोबाइल ऐप का उपयोग कर रहे हैं। वायरस के फैलने से पहले ही उद्योग विकास की गति पर था। कोविड-19 ने विकास को और तेज किया। इन विकासों के परिणामस्वरूप, हम अब सभी हितधारकों से स्वास्थ्य और कल्याण पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

कोविड-19 संकट को सरकारों और केंद्रीय बैंकों ने मौद्रिक और राजकोषीय उपायों के साथ जवाब दिया है जो वैश्विक वित्तीय संकट के चरम के दौरान घोषित की गई थी। इसके कारण विकसित अर्थव्यवस्थाओं में ब्याज दरें शून्य के करीब है। इससे वैश्विक तरलता में वृद्धि हुई, जिसके परिणामस्वरूप भारत सहित बड़े उभरते बाजारों में एफआईआई का प्रवाह आया, क्योंकि हमें वित्त वर्ष 2021 में अब तक 2 लाख करोड़ रुपए से अधिक का प्रवाह प्राप्त हुआ है।

सेक्टर 3 में पिछले कई दिनों से चली आ रही सीवर की समस्या के लिए डिस्पोजल पर हरियाणा सरकार में परिवहन व खनन मंत्री माननीय मूलचन्द शर्मा के बड़े भाई टीपरचंद शर्मा ने मौके का नगर निगम के जॉइन्ट कमिश्नर नवदीप नैन व संबंधित एसडीओ और जेई को बुलाकर मुयाना किया और जल्द से जल्द समस्या का समाधान करने का नि

बता दें कि पिछले काफी दिनों से सेक्टर 3 के डिस्पोजल पर सीवर के पानी की निकासी को लेकर कार्य चला हुआ था जिसकी वजह से लोगों को दिक्कत आ रही थी। डिस्पोजल की बेहतर सुविधा और डिस्पोजल पर नगर निगम द्वारा कराए जा रहे मेंटेनेंस के कार्य को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए भाजपा नेता टिपरचंद शर्मा व नगर निगम के ज्वाइंट कमिश्नर नवदीप नैन ने दौरा किया। साथ ही संबंधित अधिकारी एसडीओ विनोद सिंह, जेई राजन तेवतिया, सेक्टर 3 निवासी सुभाष लाम्बा, पारस जैन व अशोक शर्मा मौजूद रहे । अधिकारियों ने जल्द ही डिस्पोजल पर आ रही समस्या को दूर करने की बात कही है। ताकि लोगों को सीवरेज के ओवरफ्लो होने जैसी समस्याओं को दूर किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here