HCS पेपर लीक मामला : SIT ने मुख्य आरोपी महिला वकील को दिल्ली से किया काबू

0
666

Chandigarh News : हरियाणा सिविल सर्विसेज (ज्यूडीशियल ब्रांच) प्रिलिमिनरी परीक्षा पेपर लीक मामले में एस.आई.टी. ने मुख्य आरोपी महिला वकील को दिल्ली स्थित नजफगढ़ से गिरफ्तार किया है। महिला की पहचान दिल्ली निवासी 46 वर्षीय सुनीता के रूप में हुई है। सुनीता के पास ही लीक होने के बाद सबसे पहले पेपर आया था।

एस.आई.टी. ने सुनीता को वीरवार को जे.एम.आई.सी. इमानबीर धालीवाल की अदालत में पेश किया। एस.आई.टी. ने सुनीता का पांच दिन का पुलिस रिमांड मांगा। एस.आई.टी. दलील दी है कि सुनीता एक मास्टरमाइंड है और पुलिस को पता करना है कि पूरे घोटाले में कौन-कौन शामिल है।

पुलिस को सुनीता का मोबाइल और लैपटॉप बरामद करना है ताकि मामले में अन्य गिरफ्तारियां हो सकें। अदालत ने पुलिस की दलील सुनने के बाद सुनीता को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

एस.आई.टी. ने बताया कि सुनीता ही मामले की मांस्टरमाइंड है। उसने ही पेपर आगे बेचने के लिए करोड़ो रुपए की डील की थी। सुनीता ने जनरल कैटेगरी में परीक्षा देकर टॉप भी किया था। इसके अलावा उसने आगे पेपर बेचने के लिए सुशीला से संपर्क किया था।

सुशीला और शिकातकर्ता सुमन सैक्टर-24 के कोचिंग सैंटर में पढ़ती थी। सुमन ने जब सुशीला को कॉल कर नोट्स मंगवाए थे तो गलती से सुशीला ने सुनीता को पेपर लीक की रिकार्डिग भेज दी थी। हरियाणा सिविल सॢवसेज (ज्यूडीशियल ब्रांच) प्रिलिमिनरी परीक्षा पेपर लीक होने की शिकायत हरियाणा पुलिस को दी थी।

पुलिस ने मामले में कार्रवाई करने की बजाए कुछ नहीं किया था। इसके बाद सुमन ने पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सी.बी.आई. मांग की थी, जिसमें कहा था कि हरियाणा सिविल सॢवसेज (ज्यूडीशियल ब्रांच) प्रिलिमिनरी परीक्षा करवाने की जिम्मेवारी रजिस्ट्रार (रिक्रूटमैंट) डा. बलविंद्र कुमार शर्मा की थी, जबकि रजिस्ट्रार (रिक्रूटमैंट) डा. बलविंद्र कुमार शर्मा और सुनीता की जब कॉल डिटेल चैक की तो उनके बीच एक साल के भीतर 760 कॉल और मैसेज का रिकार्ड सामने आया। हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ पुलिस को मामले में एस.आई.टी. बनाकर केस दर्ज करने के आदेश दिए थे। पुलिस विभाग ने एस.पी आपरेशन रवि कुमार, डी.एस.पी. कृष्ण कुमार और इंस्पैक्टर पूनम दिलावरी के नेतृत्व में एस.आई.टी. बनाई थी।

जिला अदालत में रोने लगी सुनीता :
पकड़ी गई महिला सुनीता जिला अदालत में रोने लगी। उसने कहा कि मामले में उसे झूठा फंसा दिया है। उसने कहा कि उसे पीठ दर्द है और साथ ही आरोप लगाया कि उसे पुलिस ने परेशान किया है। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि उनका अन्य अभियुक्त बलविंदर सिंह के साथ कोई संबंध नहीं है और उन्होंने पिछले एक साल में उनसे संपर्क नहीं किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here