प्रदेश के युवाओं के हित में हो युवा नीति का गठन : हिमांशु भट्ट

0
433

Faridabad News, 26 July 2020 : आज प्रदेश के खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग मंत्री श्रीमान संदीप सिंह जी से फरीदाबाद क्षेत्र से (हरियाणा राज्य स्तारिये सर्व श्रेष्ट युवा हिमांशु भट्ट 2017-18 खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग) एवं संभारये फाउंडेशन के अध्यक्ष अभिषेक देशवाल द्वारा सेक्टर 16 स्थित सर्किट हाउस में स्वागत कर मुलाकात की और उन्हें प्रदेश युवाओं की कुछ समस्यों से अवगत करने का काम भी किया गया।

इस अवसर पर हिमांशु भट्ट द्वार खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग मंत्री को प्रदेश के युवाओं से जुडी 10 युवा नीति मांगो को लेकर ज्ञापन पात्र सौपा गया। ताकि सुस्त पड़े युवा विभाग के कार्यो में तेजी आ सके और प्रदेश के सामाजिक कार्यो में कार्य करने वाले युवाओं के हित में युवा नीति का गठन हो सके और प्रदेश के गांव व शहरी स्तर पर खत्म होते जा रहे युवा मंडलो, महिला मंडलो को सामाजिक कार्यो को लेकर दिशा प्रदान हो सके। हिमांशु भट्ट ने यह भी बतया की आज प्रदेश के सामाजिक कार्यो में लगे हुए युवाओं के लिया कोई नीति ना होने के कारण से युवाओं को अपनी कार्य करने की क्षमता के विपरीत दिशा में कार्य करने के लिया मजबूर होना पढ़ रहा है। अगर प्रदेश में युवा नीति का गठन किया जाये तो प्रदेश के युवाओं को देश की उन्नति में कार्य करने के सुनहरे अवसर प्रदान होंगे।

इसपर खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग मंत्री संदीप सिंह ने आश्वसन देते हुए बतया है की आपके द्वारा दी गई मांगो को लेकर प्रदेश सरकार प्रयासरत है और हम लगतार विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर युवा नीति को लेकर चर्च कर रहे है और किस प्रकार से युवा क्लब को दुबारा से सुचारू रूप से चलाया जा सके। सभी मुद्दों को लेकर कार्य किया जा रहा है हम जल्द ही प्रदेश के युवाओं के हित युवा नीति को लागू करने का कार्य करेंगे। और जरुरत पढ़े पर युवाओं सुझावों को भी आमंत्रित किया जायेगा।

युवा नीति मांगो को लेकर ज्ञापन पात्र

1) खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग के (युवा विभाग) को covid 19 में सक्रिय साझेदारी देने पर जोर दिया जाये।

2) प्रदेश के हर YCO के साथ हर जिले में एक से दो युवाओं को प्रदोनित कर सरकार द्वारा बनाई जा रही योजनओं को गाँव-गाँव तक पहोचने एवम अधिक से अधिक युवाओं को अपने साथ जोड़ने का कार्ये किया जाये।

3) सुस्त पड़े युवा विभाग में अधिक से अधिक जागरूकता गतिविधियों पर जोर दिया जाये।

4) बेहतर नौकरियों के अवसर और वैज्ञानिक अवमूल्यन के लिए रिसर्च पाठ्यक्रमों की दक्षता में सुधार की योजना।

5) ग्राउंड स्तर पर निजी स्कूलों के बच्चों के लिए युवा विभाग की सीमाओं को बढ़ाना।

6) सरकारी नौकरियों में भर्ती प्रक्रिया को और अधिक तेजी से भर्तियों के लिए सरल और कम किया जाना चाहिए जिससे की अंततः युवाओं के कीमती समय की बचत होगी।

7) कौशल केंद्र और निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की इंटर्नशिप योजनाओं में सुधार करना जिससे की छात्रों के समय और कौशल के वास्तविक लेकिन अनजान शोषण को रोका जा सके।

8) हमारे देश मे खेल संबंधित विभागों में अधिकांशतः बगैर खेल की पृष्ठभूमि वाले लोगो को क्यों चुना जाता है?

9) 135 करोड़ की जनसंख्या वाला और सर्वाधिक युवा शक्ति वाला देश होने के बाद भी हम वैश्विक स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में निचले स्तर पर रह जाते हैं क्या इसका कारण खेल नीति और खिलाड़ियों की चयन प्रक्रिया में राजनीतिक हस्तक्षेप को कितना ज़िम्मेदार मानते हैं?

10) खेलकूद को अनिवार्य पाठ्यक्रम में सम्मिलित करना चाहिए और इसकी पूरी निगरानी की जानी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here