महारानी वैष्णो देवी मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर लगा रक्तदान शिविर, 62 यूनिट रक्त एकत्रित

0
52

Faridabad News, 26 Feb 2021 : श्री महारानी वैष्णोदेवी मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के शुभ अवसर पर आज मंदिर परिसर में रक्तदान और माता की भव्य चौकी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मंदिर परिसर में आयोजित चौथे रक्तदान शिविर में लोगों ने स्वेच्छा से ब्लड डोनेशन किया। मंदिर संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया ने रक्तदाताओं का हौंसला बढ़ाया। उन्होंने रक्तदाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह कार्य दुनिया का सर्वश्रेष्ठ कार्य है। रक्तदान करने वाले व्यक्ति को सबसे बड़ा दानदाता माना जाता है। श्री भाटिया ने कहा कि रक्त देने वाले को यह पता ही नहीं होता कि उसके द्वारा दिया गया रक्त किस जरूरतमंद को दिया जाएगा। इसके साथ ही रक्त का दान महादान की श्रेणी में आता है। उन्होंने रक्तदान करने आए लोगों का आभार भी जताया।

रक्तदान शिविर में 62 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया, जोकि थैलीसीमिया से पीडि़त लोगों को भेंट किया गया है। मंदिर संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया ने बताया कि संतों के गुरूद्वारा संस्था के सहयोग से इस शिविर का आयोजन किया गया है। यह रक्त थैलीसीमिया से पीडि़त लोगों को दिया जाएगा। सभी जानते हैं कि थैलीसीमिया से पीडि़त लोगों को सबसे अधिक रक्त की जरूरत होती है। इसलिए उनके लिए इस शिविर का आयोजन किया गया है।

इसकी शुरूआत दोपहर एक बजे हुई और शाम करीब पांच बजे तक लोगों ने रक्तदान शिविर में शामिल होकर रक्त का दान किया। इसके बाद मंदिर संस्थान में राज सहगल एंड पार्टी द्वारा माता की चौकी का आयोजन किया गया। इसमें खास बात तो यह रही कि माता की चौकी करने वाली पार्टी के सदस्यों ने भी रक्तदान में हिस्सा लिया। इस मौके पर रक्तदान करने वाले सभी लोगों को मंदिर संस्थान की ओर से सम्मानित किया गया। सभी रक्तदाताओं को प्रमाण पत्र और माता की चुन्नी भेंट की गई।

प्रधान जगदीश भाटिया ने सभी रक्तदाताओं को मंदिर में ही सम्मान पत्र भेंट किया । इस अवसर पर मंदिर संस्थान के चेयरमैन प्रताप भाटिया, फकीरचंद कथूरिया, महामंत्री संजय वधवा, प्रीतम धमीजा, राज सहगल, सुरेंद्र गेरा, अनिल ग्रोवर, दिनेश भाटिया, एसपी भाटिया, नेतराम गांधी, धीरज पुंजानी, राजीव शर्मा, विनोद पांडे, ज्योति अरोड़ा, बलवीर, ज्योति अरोड़ा, राहुल मक्कड़, प्रदीप, डा. ऋतु अरोड़ा, रामा राघव एवं आयुष गेरा भी उपस्थित थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here