पूर्ण सत्य की जिज्ञासा से आरम्भ होती है बुद्धत्व तक की विकास-यात्रा: आशुतोष महाराज

0
479

New Delhi News, 17 May 2019 : ‘बुद्धत्व’ मंज़िल है उस सफर की, जो पूर्ण सत्य को जानने की जिज्ञासा से शुरु होती है। सिद्धार्थ का बुद्ध तक का सफर भी हमें इसी मंज़िल की ओर प्रेरित करता है।

सिद्धार्थ गौतम परिव्राजक बन गए। तन पर चीवर धारण कर निकल पड़े। अपनी राजधानी कपिलवस्तु के ऐश्वर्यों को ठुकरा कर आगे बढ़ गए। मन में प्रेरणा हुई, मगध राज्य की राजधानी राजगृह की ओर चला जाए। अतः राजगृह पहुँच गए। विराग का सूर्य सिद्धार्थ के हृदय में धधक रहा था। इसलिए राजगृह के महिमाशाली राजमार्गों को पार कर उन्होंने पांडव-पर्वत के तल में एक छोटी-सी कुटीर बना ली।

एक साधक की खोज…
पथिक है, तो पथ भी होना चाहिए। साधक के पास साधना का मार्ग भी होना ज़रूरी है। सिद्धार्थ भी अपने पथ की खोज में निकल पड़े। साधना की अनेक परम्पराओं पर उन्होंने प्रयोग किया। तपस्या की प्रचलित पद्धतियों का परीक्षण किया। उग्र तप किया। आत्म-पीड़न के सभी साधन अपनाए। नितांत अल्पाहार किया। कभी-कभी तो जंगली फल या जड़ें खाकर गुज़ारा किया।

फिर एक दिन… सिद्धार्थ गौतम के भीतर तीव्र मनोमंथन चल पड़ा। विवेक की नवीन तरंगें मन-मस्तिष्क को झंझोड़ गईं- ‘यह क्या स्थिति बना ली है मैंने अपनी? तप तो छोड़ो, अब तो हिलना-डुलना भी असंभव हो गया है। यह आत्मविजय का मार्ग कैसे हो सकता है, जब इसके द्वारा देह-विजय तक संभव नहीं! मेरे तप का ध्येय तो ‘दुःखों से निवृत्ति’ का उपाय खोजना था। परन्तु मैं तो स्वयं ही दुःख-क्लेशों का घर बन कर रह गया हूँ। देह-बल क्षीण होता जा रहा है। मेरा मन भूख-प्यास और थकावट के मारे कहीं भी एकाग्र नहीं हो पा रहा, फिर नवीन-ज्ञान का प्रकाश इसमें कैसे उतरेगा?… मैंने देह को तो जैसे-तैसे साध लिया, लेकिन मेरा मन और चित्त! इनका क्या? ये तो जैसे के तैसे हैं, फिर उस महान ज्ञान और अवस्था को कैसे पाऊँ, जो मन और चित्त को शांत करने पर ही प्राप्त होती है? नहीं!.. नहीं… यह आत्म-पीड़न का मार्ग है, आत्म-ज्ञान का नहीं! दुःखों का आमंत्रण है, दुःखों का समाधान नहीं!… मैं इस प्रचण्ड हठयोग को अभी तिलांजलि देता हूँ।’

उस समय सिद्धार्थ गौतम न्यग्रोध वृक्ष के तले बैठे थे। संयोग से, एक महान महिला विभूति वहाँ पहुँची। वे सेनानी नाम के गृहपति की कन्या सुजाता थी। वह न्यग्रोध वृक्ष के पूजन हेतु आई थी और अपने साथ स्वर्ण-पात्र में खीर भी लाई थी। ज्यों ही सुजाता ने गौतम को देखा, वह दिव्य प्रेरणा से अभिभूत हो उठी। उसने खीर से भरा स्वर्ण पात्र सिद्धार्थ को अर्पित किया और उनसे भोग लगाने की प्रार्थना की। अनुभवी कहते हैं, सुजाता एक सिद्ध आत्मज्ञानी थी। हठयोग से अशक्त हुए गौतम को ज्ञान-मार्ग पर प्रशस्त करने आई थी। खीर अर्पित करते हुए उसने गौतम से कहा था- ‘वीणा के तारों को इतना ढीला भी मत छोड़ो कि उसमें से स्वर ही न प्रस्फुटित हों और इतना कसो भी मत कि वे तारें टूट ही जाएँ। अति के दोनों मार्ग अनुकरणीय नहीं हैं। मध्यम मार्ग श्रेष्ठ मार्ग है।’ सुजाता ने सिद्धार्थ गौतम को तत्त्वज्ञान भी प्रदान किया। इस तरह सिद्धार्थ की खोज पूर्ण हुई।

एक साधक का अटल संकल्प…!
सिद्धार्थ सुपतिट्ठ नामक नदी के घाट पर पहुँचे। वर्षों बाद उन्होंने मल-मल कर स्नान किया। फिर खीर ग्रहण की। उसी रात उन्हें पाँच दिव्य अनुभूतियाँ प्राप्त हुईं। उन समस्त अनुभूतियों का केवल एक ही संकेत था कि उन्हें ‘ बोधि’ (enlightenment) प्राप्त होकर रहेगी।वे दृढ़व्रती होकर राजपथ से होते हुए गया पहुँच गए।

गया में उन्होंने पीपल का एक विशाल वृक्ष देखा और उसके तले पद्मासन लगाकर बैठ गए। नेत्र मूँदने से पहले गौतम ने एक महासंकल्प लिया, जो युगांतरकारी था, जो युग-युगीन साधकों के लिए प्रेरणा के स्वर्णिम अक्षर हैं। वह महासंकल्प था- ‘मैं ‘बोधि’ पाए बिना इस आसन से नहीं हिलूँगा। पूर्णता को प्राप्त किए बिना मैं अपनी साधना की श्रृंखला को नहीं तोडूँगा। यह मेरा अटल संकल्प है।’

एक साधक का भीषण संघर्ष!
हरी-हरी पत्तियों के छत्र तले गौतम ध्यानस्थ थे। तभी ‘मार’ ने पूरे दल-बल के साथ उनके मन और चित्त पर धावा बोल दिया। यह ‘मार’ कौन था? पौराणिक भाषा में, ‘मार’ बुरे विचारों, विकारों व कुसंस्कारों को कहते हैं। मार-सैनिकों के झुण्ड के झुण्ड गौतम पर आक्रमण कर बैठे। उधर गौतम पूर्ण धैर्य रखकर उनके वार पर पलट वार करते रहे। यानी ध्यान के बाण से उन नकारात्मकताओं का हनन करते गए। ‘मार’ धराशायी हुआ। उस भूखे कौए की भाँति जो चर्बी की आकांक्षा से किसी पत्थर पर चोंच मारता रहे, यह सोचकर कि कुछ न कुछ तो अवश्य मिलेगा। परन्तु गौतम तो माया और नकारात्मक विचारों के प्रति एकदम शुष्क हो चुके थे। अत: ‘मार’ को घायल होकर विदा लेनी ही पड़ी।

चार सप्ताह तक गौतम प्रगाढ़ ध्यान में लीन रहे। केवल थोड़ा बहुत भोजन व जल ग्रहण करने हेतु वे नेत्र खोलते। अंततः तम विलीन हुआ। पूर्ण प्रकाश प्रखर हुआ। अविद्या नष्ट हुई। ज्ञान का भुवन भास्कर अंतर्जगत में देदीप्यमान हो उठा। सिद्धार्थ ‘बुद्ध’ (The Enlightened) हो गए। इसी के साथ उनका अनुसंधान भी पूरा हुआ।

‘दुःख क्यों होता है?’ ‘दुःख कैसे दूर किया जाए?’- अंतर्जगत की गहन गहराइयों में गौतम ने इन प्रश्नों का समाधान खोज लिया। उनका यही शोध समाज के लिए ‘धम्म’ (धर्म) पथ बनकर उजागर हुआ।

(आप सभी को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here