स्मार्ट एपीआई के लॉन्च के साथ एंजेल ब्रोकिंग ने एपीआई इंटिग्रेशन को सक्षम किया

0
171

Mumbai, 28 Nov 2020 : भारतीय रिटेल निवेशकों के निवेश में तेजी लाने के लिए एंजेल ब्रोकिंग ने स्मार्ट एपीआई के माध्यम से एपीआई इंटिग्रेशन के लिए खुद को ओपन किया है। इस फ्री-टू-इंटीग्रेटे फ़ीचर किसी भी प्लेटफ़ॉर्म, जिसमें स्टार्टअप और स्टॉक एडवाइज़री भी शामिल हैं, एंजेल ब्रोकिंग के माध्यम से रियल-टाइम ट्रेड्स को निष्पादित करने में सक्षम करता है, साथ ही 5 प्रोग्रामिंग भाषाओं में अपने कार्यक्रम बनाने के लिए एल्गो ट्रेडर्स को सशक्त बनाता है।

वर्तमान में प्लेटफ़ॉर्म पायथन, नोड्स, जावा, आर, गो का सपोर्ट करता है। स्मार्टएपीआई ने 2.83 मिलियन एंजेल ब्रोकिंग ग्राहकों (अक्टूबर 2020 के अनुसार) के लिए एंड-टू-एंड ट्रेडिंग सर्विसेस के विकास का मार्ग प्रशस्त किया है।

एंजेल ब्रोकिंग ग्राहक जो इनमें से किसी भाषा में एल्गोरिदम बनाना चाहते हैं, वे स्मार्टएपीआई के माध्यम से सीधे अपने खाते में ऑर्डर एक्जिक्यूट कर सकेंगे। उदाहरण के लिए, कस्टमर-फेसिंग एल्गो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म अब एंजेल ब्रोकिंग प्लेटफॉर्म के साथ इंटिग्रेट हो सकते हैं और अपने ग्राहकों को निर्बाध रूप से ब्रोकरेज के माध्यम से ट्रेड्स पूरे करने में मदद कर सकते हैं।

लॉन्च पर टिप्पणी करते हुए एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के सीईओ श्री विनय अग्रवाल ने कहा, “एंजेल ब्रोकिंग हमेशा से ही टेक्नोलॉजी द्वारा संचालित इनोवेशंस में सबसे आगे रहा है। आज, हमें स्मार्टएपीआई के साथ इस संबंध में एक और बड़ी उपलब्धि घोषित करने पर गर्व है। स्मार्टएपीआई न केवल अपने यूजर्स को सशक्त प्लेटफॉर्म बनाने और एल्गो ट्रेडिंग को मूल रूप से चलाने में सशक्त करेगा, बल्कि हमारे ग्राहकों के लिए अल्ट्रामॉडर्न सेवाओं की नई लहर को भी अनलॉक करेगा। हमने यह सुनिश्चित किया है कि प्लेटफार्म प्रोग्रामिंग भाषाओं की व्यापक रेंज का समर्थन करें और निकट भविष्य में और अधिक जोड़ने की दिशा में काम कर रहा है। ”

स्मार्टएपीआई जैसे विश्वसनीय प्लेटफार्म की शुरुआत के साथ, अब स्टॉक एडवाइजरी और रिकमंडेशन प्लेटफार्म अपने प्लेटफार्म को रियल टाइम के ट्रेडिंग फंक्शनलिटी के साथ ट्रेडिंग-रेडी कर सकते हैं। स्मार्टएपीआई का उपयोग करते हुए ट्रेडर अब बिना किसी लागत के ऑटोमेटेड ट्रेड्स को स्पीड और बड़े स्केल पर चलाने के लिए एक कस्टमाइज्ड ट्रेडिंग एल्गोरिदम को लागू कर सकते हैं। स्मार्टएपीआई प्लेटफॉर्म एंजेल ब्रोकिंग ग्राहकों को कम से कम कोडिंग के साथ ट्रेड निवेश को ऑटोमेट करते हुए पेशेवर निवेशकों के साथ प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति देगा।

एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के सीएमओ श्री प्रभाकर तिवारी ने कहा, “हम अपने ग्राहकों के लिए इस प्लेटफार्म को पेश करने को लेकर बहुत उत्साहित हैं और इस बात का भरपूर विश्वास है कि वे लाभप्रदता और बेहतर यूजर अनुभव के लिए एक स्पष्ट मार्ग की पेशकश करते हुए प्लेटफ़ॉर्म को व्यापक बना देंगे।”

प्लेटफार्म न केवल ग्राहकों को कई कोडिंग भाषाओं में एपीआई प्रदान करने में सक्षम बनाता है, बल्कि एक डेडिकेटेड प्लेटफार्म के माध्यम से विशेषज्ञों के हमारे पैनल द्वारा उनके प्रश्नों को स्पष्ट करने में भी उनकी सहायता करता है।

एंजेल ब्रोकिंग के लिएः
एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड (एबीएल) एनएसई पर सक्रिय ग्राहकों के मामले में भारत में सबसे बड़े रिटेल ब्रोकिंग हाउसों में से एक है। एबीएल एक टेक्नोलॉजी से चलने वाली वित्तीय सेवा कंपनी है जो ब्रांड “एंजेल ब्रोकिंग” के तहत अपने ग्राहकों को ब्रोकिंग और एडवायजरी सर्विसेस, मार्जिन फ़ंडिंग, शेयरों के बदले लोन और फाइनेंशियल प्रोडक्ट वितरण प्रदान करती है। ब्रोकिंग और संबद्ध सेवाओं की पेशकश (i) ऑनलाइन और डिजिटल प्लेटफॉर्म और (ii) 11,000 से अधिक अधिकृत व्यक्तियों के नेटवर्क के माध्यम से की जाती है।

एबीएल में एंजेल ब्रोकिंग मोबाइल एप्लिकेशन के 5.7 मिलियन से अधिक डाउनलोड और एंजेल बीईई मोबाइल एप्लिकेशन के 1.0 मिलियन से अधिक डाउनलोड हैं, जो ग्राहकों को डिजिटल रूप से सेवाओं का लाभ उठाने में सक्षम बनाते हैं। हमारा कस्टमर आउटरीच भारत में लगभग 96.8% या 18,635 पिन कोड्स तक है। एबीएल क्लाइंट एसेट्स में ~ 192,830 मिलियन और 2.7 मिलियन ऑपरेशनल ब्रोकिंग अकाउंट्स का प्रबंधन करता है।

सेफ हार्बर स्टेटमेंट
इस दस्तावेज में भविष्य की स्थिति, घटनाओं या परिस्थितियों से संबंधित बयान, जिसमें योजनाओं और उद्देश्यों के बयान शामिल है लेकिन उतने तक सीमित नहीं है, रिसर्च एंड डेवलपमेंट की प्रगति और नतीजे, प्रोजेक्ट की संभावित विशेषताएं, प्रोजेक्ट की क्षमता और परियोजना से संबंधित मुद्दों के लिए फॉरवर्ड-लुकिंग स्टेटमेंट्स हैं, जो मौजूदा और विकसित होती परिस्थितियों के आधार पर बनी भविष्य की घटनाओं के संभावित परिणाम और पूर्वानुमान है। इस तरह के बयान कई जोखिम और अनिश्चितताओं के अधीन हैं और जरूरी नहीं कि भविष्य के परिणामों के बारे में सटीक पूर्वानुमान लगाएं। वास्तविक परिणाम फॉरवर्ड-लुकिंग स्टेटमेंट्स में प्रत्याशित रूप से भिन्न हो सकते हैं। कंपनी पर वास्तविक परिणाम, बदली धारणाओं या अन्य कारकों को प्रतिबिंबित करने के लिए फारवर्ड-लुकिंग बयानों को अपडेट करने का कोई दायित्व नहीं है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here